May 19, 2022

महिलाओं के लिए ख़ास उपहार! Indian Railway ने सीट पर इस वजह से किया ख़ास बदलाव- जानें

Train New Seat

डेस्क : दुर्गम स्थानों तक पहुंचने के लिए भारतीय रेलवे ने यात्रियों के ट्रेन सफर को सुविधाजनक बनाने के क्षेत्र में समय समय से कई सारे कार्य किए हैं। हाल ही में क्रेन की तरफ से यात्रियों को लग्जरी सुविधाएं देने की भी कोशिश की गई है। इसी क्रम में भारतीय रेलवे द्वारा ट्रेन में एक खास सीट की व्यवस्था भी की गई है जो लोअर बर्थ से जुड़ी हुई है।

यह तस्वीर में आप देख सकते हैं कि आप खास बर्थ लगाई गई है जिसे देखने के बाद लोगों के मन में कई सवाल उठ रहे हैं। लोग कह रहे है कि यह खास बर्थ आखिर क्यों लगाई गई है? इसका लाभ किसे मिलेगा? क्या इसके लिए अलग से चार्ज लगेंगे? आइए जानते हैं इन सभी सवालों के जवाब – दरअसल यह उत्तर रेलवे के लखनऊ डिवीजन की खास पहल है। मदर्स डे के मौके पर रेलवे ने इसे शुरू किया है जो एक्स्ट्रा बर्थ बच्चों के लिए लगाई गई है। इसे बेबी वर्ष नाम दिया गया है जो बेबी के लिए अलग से सीट से जोड़ी गई है। यह तस्वीर देख आप अंदाजा लगा सकते हैं कि किस तरह से बच्चों को ध्यान में रखते हुए यह व्यवस्था की गई है।

इससे उन महिलाओं को काफी सहायता मिलेगी जो छोटे बच्चों को लेकर सफर करती हैं। राशि महिलाओं को काफी सहायता मिलेगी वह अपने बच्चे को सुला भी सकती हैं। उन्हें एक सीट पर होने वाली समस्याओं का सामना नहीं करना पड़ेगा। अलग से लगाई गई इस सीट के कॉर्नर पर एक स्टॉपर भी है, जिससे बच्चे के गिरने का डर भी नहीं होगा।

लोआर सीट पर स्टॉपर की व्यवस्था नहीं होती है। साथ ही यह सीट फोल्डेबल है जिसे जरूरत नहीं पड़ने पर इसे आसानी से नीचे किया जा सकता है और फिर जरूरत पड़ने पर ऊपर किया जा सकता है। आपको बता दें कि सिर्फ लोअर सीट के लिए यह बेबी बर्थ लगाई गई है। ट्रेन के बोगी में 12,17 आदि लोअर सीट में इसकी सुविधा होगी।

एक पहल के तौर पर के इसकी शुरुआत की गई है। जिसे फिलहाल एक ही ट्रेन के एक डिब्बे में लगाई गई है। यह बेबी बर्थ लखनऊ मेल ट्रेन में लगाई गई है। 12 और 60 नंबर की सीट पर या बेबी बर्थ अलग से लगाई गई है और फिलहाल इन्हीं 2 सीटों पर इसकी व्यवस्था की गई है। इस पर आने वाले रिव्यु के आधार पर ही इस दिशा में आगे कार्य किए जाएंगे। अभी तक इसके अलग से फेयर और बुकिंग को लेकर किसी भी तरह की जानकारी रेलवे की तरफ से नहीं दी गई है। माना जा रहा है कि बच्चों के साथ सफर करने वाली महिलाओं के लिए यह फायदेमंद साबित हो सकता है।