2025 में मिलेगा भारत को दुनिया का सबसे खतरनाक मिसाइल डिफेंस सिस्टम,जानें इसकी खासियतें

2025 में मिलेगा भारत को दुनिया का सबसे खतरनाक मिसाइल डिफेंस सिस्टम,जानें इसकी खासियतें

नई दिल्ली : रूस ने भारत को लेकर करा है बड़ा एलान जिसमें उसने बताया की वह भारत को एस-400 एयर डिफेंस मिसाइल सिस्टम दे देगा। रूस ने यह भी बता दिया है की यह सारे मिसाइल सिस्टम आने वाले 5 साल में दाखिल हो जायेंगे , 2025 में यह सिस्टम भारत में चालु हो जायेंगे। इस मिसाइल का उत्पादन भारत में चालु कर दिया गया है। जानकारी के लिए बता दें की विदेश मंत्री की तृतीया देश के संग 22 मार्च और 23 मार्च को बैठक है जिसमे रूस ,चीन और भारत रहेंगे। यह मिसाइल सिस्टम रूस के एस-300 का अपग्रेडेड वर्शन है ऐसा इसलिए करा जायेगा क्यूंकि रूस भारत के कश्मीर के मुद्दे को अच्छे से समझता है। आपको बता दें की कुछ समय पहले केंद्र शासित प्रदेश घोषित कर दिया था।

S-400 की खासियतें

हवा में एक साथ 36 निशाने पर वार करने में सक्षम

  • 3 तरह की अलग-अलग मिसाइलें दागने की क्षमता
  • 400 किलोमीटर दूर से ही दुश्मन को पहचान लेता है
  • रूस का नेक्स्ट जेनेरेशन एयर डिफेंस मिसाइल सिस्टम
  • 400 KM की रेंज तक में कार्रवाई करने की क्षमता
  • अमेरिका के आधुनिक थाड़ मिसाइल से कई गुना बेहतर
  • थाड़ सिर्फ 200 किमी की रेंज में निशाना भेद सकता है
  • 400 किमी की दूरी तक मार कर सकता है S-400
  • S-400 की अधिकतम गति 4.8 किमी/सेकेंड
  • सबसे बड़ी ख़ासियत एक जगह से दूसरे जगह ले जाना
  • सिर्फ 5 मिनट के अंदर इसे तैनात किया जा सकता है
  • F-35 फाइटर जेट को भी मार गिरा सकता है

कश्मीर के मुद्दे पर संयुक्त राष्ट्र में भी आवाज़ें उठी पर रूस के राजदूत कुदाशेव ने कह दिया की या भारत और पकिस्तान का दो पक्षों वाला मामला है। रूस के प्रमुख रोमन बाबूसकिन ने साफ़ बता दिया है की इन मिस्ससिले का उत्पादन चालु हो चुका है। इनको हम 2025 तक भारत में पूरी तैयारी के साथ उतार देंगे। आपको बता दें की रूस के राष्ट्रपति और भारत के प्रधान मंत्री नरेंदर मोदी ने 2018 में इस एस -400 ट्रायम्फ मिसाइल प्रणाली की आपूर्ति के लिए समझौते पर हस्ताक्षर करे थे। इस हस्ताक्षर के बाद अमेरिका की यह प्रतिक्रिया थी की वह भारत के ऊपर प्रतिबंध लगाएगा क्यूंकि काफी पुराने अमेरिका और रूस की जोड़ी नहीं बनती है।

ये भी पढ़ें   Delhi-Metro की ब्लू लाइन और येलो लाइन के सारे कोच में लगेगा सेंसर - अब ऑनलाइन होगी मॉनिटरिंग