देखें तस्वीर : साल 2021 में कोरोनाकाल में हरिद्वार में होगा महाकुम्भ का आयोजन , तैयारियां जोरों पर

न्यूज डेस्क / धर्म कर्म : साल 2021 में उत्तराखंड के हरिद्वार में आयोजित होने वाले महाकुंभ को लेकर हरिद्वार में तैयारियां जोरों शोरों से चल रही है. हालांकि इस बार का महाकुंभ अन्य सालों की अपेक्षा अलग होगा और कम दिनों का होगा . परंतु स्थानीय प्रशासन व कुंभ सेवा समिति के द्वारा तैयारियां युद्ध स्तर पर जारी है कोरोना काल में जहां एक तरफ देश की सारी गतिविधियां उठापटक के दौर से गुजर रही है वहीं दूसरी तरफ धार्मिक गतिविधियां पर भी इसका काफी प्रभाव पड़ा है। कोरोना को देखते हुए यहां पर कोरोना काल में महाकुंभ मेले के आयोजन को लेकर हरिद्वार जिला प्रशासन और कुंभ सेवा समिति सारी व्यवस्थाएं करने में जुटी है। बिना मास्क लगाए लोगों को घाट पर से पहले एंट्री नहीं दी जा रही है।

इस बार कम दिनों का होगा महाकुंभ अन्य बार जो महाकुंभ मेला मकर संक्रांति से शुरू होकर रामनवमी तक चलता था। वह महाकुंभ मेला इस बार मात्र 2 महीने में समाप्त हो जाएगा इस बार सिर्फ चार शाही स्नान होंगे और मार्च और अप्रैल के माह में इसकी आयोजन की जाएगी । फिलवक्त हरिद्वार के हरकी पौड़ी गंगा घाट पर का मनोरम छटा यह बताने के लिए काफी है कि आगामी दिनों में यहां पर बड़ा आयोजन होने वाला है । चारों तरफ रंग रोगन, घाट पर चेंजिंग रूम , सभी पुल पुलिया की मरम्मत ,पानी में बैरिकेट्स और साफ सफाई की हो रही व्यवस्थाएं देखकर वहां पहुंचने वाले श्रद्धालुओं को अभी से दिल में सुकून दे रही है कि भव्य महाकुंभ में आने वाले श्रद्धालुओं को किसी प्रकार की कोई भी परेशानियों का सामना ना करना पड़े इस को लेकर प्रशासनिक स्तर से सभी तैयारियां की जा रही है।

इन चार जगहों पर होगा महाकुंभ का आयोजन बता दें कि भारत भर में प्रयागराज , नासिक, उज्जैन, हरिद्वार इन चार जगहों पर कुंभ मेले का आयोजन होता है। साल 2021 का महाकुंभ मेला हरिद्वार में आयोजन होता है। इससे पहले हरिद्वार में 2010 में महाकुंभ का आयोजन हुआ था। और 12 साल पर होने वाले महाकुंभ के आयोजन में इस बार साल 2021 में फिर से महाकुंभ का आयोजन हरिद्वार में होगा ।

कोरोनाकाल को लेकर स्थानीय लोगों में है मायूसी कोरोनाकाल को लेकर इस बार स्थानीय दुकानदारों व लोगों में मायूसी है कि कहीं यह मेला कोरोना की भेंट न चढ़ जाए लेकिन हरिद्वार स्टेशन से लेकर हर की पौड़ी गंगा घाट पर स्थानीय लोगों की जो भी चहल कदमी है उसको देखकर यह लगता है कि कोरोना से बचते बचाते हुए लोग महाकुंभ में स्नान के लिए गंगा जी में डुबकी लगाने के लिए जरूर आएंगे। संख्या थोड़ी कम और ज्यादा हो सकती है परंतु मेले पर कोरोना का प्रभाव फीका पड़ता हुआ दिख रहा है । बहराल तैयारियां चाक चौबंद है और द बेगूसराय की टीम आपको इसकी अपडेट्स देती रहेगी।