कश्मीर में 12 दिनों में 4 बिहारियों की हुई हत्या, आतंकी खौफ से भागने पर मजबूर हैं बिहारी..

Bihar Labours back to home from J K

न्यूज डेस्क: जम्मू कश्मीर में लगातार हो रहे खून खराबा से बिहार वासी अब पलायन करने पर मजबूर हो रहे हैं, बता दें कि विगत कई दिनों से जम्मू कश्मीर में बिहार वासियों को टारगेट करके निशाना बनाया जा रहा है। और निर्मम हत्या कर दी जा रही है। इससे लोग डरे और सहमे से हो गए है, किसी तरह रह कर वहां पर आप में रोजी-रोटी कमाते थे।

लेकिन इस बेखौफ के चलते अपने परिवार के साथ चलने पर मजबूर हो रहे हैं। बताते चलें कि रविवार को कुलगाम जिले में बिहार के दो श्रमिकों की हत्या के बाद घाटी छोड़नेवाले प्रवासियों की संख्या तेजी से बढ़ी है, सोमवार को जब कश्मीर से टैक्सी व बसों का जम्मू पहुंचने का सिलसिला शुरू हुआ, तो उनमें प्रवासी ही सबसे ज्यादा थे। जम्मू स्टेशन पर प्रवासियों की भीड़ देखने को मिली। सभी घर जाने वाली ट्रेनों को पकड़ने का इंतजार कर रहे थे।

आखिर क्यों बिहारियों को ही निशाना बनाया जा रहा है:

कश्मीर में लगातार गैर राज्य वासियों में सिर्फ बिहारी की हत्या क्यों हो रही है। वहां पर तो सभी राज्य के लोग रहते हैं। दूसरे राज्यों को पसीने से सींचा, फिर किस गुनाह की सजा दी जा रही है, बिहार की श्रमशक्ति ने सभी राज्यों को अपनी मेहनत से संवारा है, और संवार रहे हैं, इसके एवज में उन्हें सिर्फ इतने पैसे चाहिए, जितने में परिवार का भरण-पोषण कर सकें। पर बिना कसूर के उनकी हत्या हो रही है। उनके परिजन पूछ रहे हैं कि हमारे घरवाले तो मजदूर थे। वो भला किसी का क्या बिगाड़ सकते थे। फिर क्यों आतंकियों ने हमारे घर के चिराग को बुझा दिया।

कश्मीर में 12 दिनों में चार बिहारियों की हुई हत्या

  • 16 अक्तूबर को मारे गये अरविंद कुमार साह का शव बांका के परघड़ी गांव पहुंचा
  • 17 अक्तूबर को मारे गये अररिया के राजा ऋषिदेव व जोगेंद्र ऋषिदेव के घर जाकर सांसद ने बंधाया ढांढ़स
  • कश्मीर के अस्पताल में भर्ती घायल चुनचुन ऋषिदेव की हालत ऑपरेशन के बाद बतायी जा रही बेहतर

You may have missed

You cannot copy content of this page