आटा, सूजी और मैदा समेत इन खाने की वस्तुआ का गिरा दाम – जानें आपको कैसे होगा फायदा

aata mehanga

आम आदमी को अब आटा, सूजी, आटा समेत कई ऐसी चीजें सस्ती दरों पर मिल सकती हैं। क्योंकि सरकार ने निर्यात नियमों में सख्ती करने के आदेश जारी किए हैं। जिसका सीधा असर खाद्य दरों पर पड़ सकता है। बता दें कि गेहूं और आटे के निर्यात पर रोक के बाद अब सरकार ने आटा और मैदा, सूजी को लेकर कार्रवाई की है. आपको बता दें कि साबुत आटा भी गेहूं के आटे की तरह ही होता है। बस चोकर भी डाला जाता है।

डाइटिशियन के अनुसार इसे सामान्य गेहूं के आटे से ज्यादा पोष्टिक बताया जाता है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक सरकार अब एक्सपोर्ट नियमों का सख्ती से पालन करने जा रही है. इससे उपरोक्त सभी निर्यात बंद हो जाएंगे। जिसके बाद बाजार में होलीमिल का आटा और मैदा सस्ती दरों पर उपलब्ध होगा। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक सरकार की ओर से नोटिफिकेशन जारी किया गया है. इसे लागू करने की तारीख 14 अगस्त बताई जा रही है। कहा जाता है कि अब निर्यात करने से पहले एक गुणवत्ता प्रमाणपत्र प्राप्त करना आवश्यक है। सरकार पहले ही गेहूं के आटे के निर्यात पर रोक लगा चुकी है।

देश में आटे की कोई कमी नहीं है। वहीं, मंत्री समिति की सिफारिश के बाद ही आटे का निर्यात किया जा सकता है। गेहूं के निर्यात पर अंतर-मंत्रालयी समिति (आईएमसी) की मंजूरी भी जरूरी होगी। अन्यथा, निर्यात आदेश मान्य रहता है। DGFT के अनुसार, “निर्यात नीति या गेहूं का आटा, मैदा, सूजी (रवा या चारा) जैसी सामग्री के विनियमन, साबुत आटे को हटा दिया गया है, लेकिन इसके लिए भी मंत्रालय की सिफारिश की आवश्यकता होगी। अन्यथा निर्यात पर पूर्ण प्रतिबंध रहेगा।

ये भी पढ़ें   क्या है ऐसा युपीए की सेतुसमुद्रम योजना में जो 15-16 वर्षो बाद इसका विरोध हिन्दू संगठन लगातार कर रहे

इसके अलावा गुणवत्ता प्रमाण पत्र के बिना किसी भी खाद्य और पेय पदार्थ का निर्यात नहीं किया जाएगा। केंद्र सरकार ने संबंधित विभागों के अधिकारियों को नियमों को सख्ती से लागू करने का निर्देश दिया है. यदि नियमों के क्रियान्वयन में कोई चूक पाई जाती है तो संबंधित क्षेत्र के अधिकारी जिम्मेदार होंगे।