बिहार की बेटी रिचा हिंदी माध्यम से UPSC क्लियर कर बनी आईएएस, कठिन विषयों पर बनाई पकड़ – जानें इनकी टिप्स

डेस्क : यूपीएससी की तैयारी भारत में लाखों अभियार्थी करते हैं लेकिन मात्र कुछ ही ऐसे होते हैं जो चयनित होकर आईएएस बन जाते हैं। कुछ ऐसा ही कमाल कर दिखाया है बिहार के सिवान जिले की रिचा रत्नम ने। आपको बता दें कि रिचा रत्नम ने यूपीएससी परीक्षा पास करने से पहले अपने 4 प्रयास दिए थे, जिसमें वह विफल हो गईं। वह कहती हैं कि वह बार-बार यह परीक्षा देती थे और मात्र कुछ नंबरों के ऊपर नीचे होने से उनका सिलेक्शन रुक जाता था। उन्होंने अपनी वह सारी गलतियों को सुधारा और जब लगातार एक के बाद एक प्रयास करती गई तो उनका आईएएस बनने का सपना पूरा हो गया।

रिचा रत्नम ने अपनी पढ़ाई दसवीं तक हिंदी माध्यम से की थी। इसके बाद 11वीं 12वीं में उन्होंने इंग्लिश माध्यम को चुना। जिस वजह से उनको काफी गहरी समझ हो गई थी। उन्होंने दोनों विषयों पर पकड़ मजबूत बना ली थी। जो अभियार्थी इस वक्त यूपीएससी के लिए तैयारी कर रहे हैं उनके लिए वह सुझाव दे रही हैं। वह कहती हैं कि जब आप यूपीएससी की तैयारी करें तो आपका पूरा मन होना चाहिए इस परीक्षा की ओर दूसरी बात रियल लाइफ सिचुएशन से अवगत होना बहुत जरूरी है क्योंकि अगर आप पूरे टाइम घर पर रहते हैं और 1 दिन परीक्षा में उठ कर चले जाते हैं तो आप परीक्षा के तरीके को समझ नहीं पाएंगे।

तीसरी बात किताबें इकट्ठा बिल्कुल भी ना करें कम किताबें ले और उनको ज्यादा से ज्यादा रिवाइज करें।अपनी चौथी बात में वह कहती हैं कि उनको सिविल सर्विसेज की कुछ खास जानकारी नहीं थी। जिस वजह से उन्होंने एक गाइडेंस प्रोग्राम भी ज्वाइन किया था वहां से उनको यह सारी जानकारी हासिल करने में काफी आसानी रही। पांचवी बात में समझाते हुए बोली कि सबसे ज्यादा जरूरी यूपीएससी की तैयारी में उत्तर लिखना होता है। आप अपने उत्तर को कितना प्रमाणिक बना रहे हैं यह जरूरी है।

उनका मानना है कि ज्यादा ध्यान मटेरियल को बाजार में खोजने पर ना देकर बल्कि कम जानकारी में ही चीजों को बार बार करने से आप अपनी सफलता हासिल कर सकते हैं इसके बाद कुछ अभ्यर्थियों को सी-सेट में परेशानी होती है। लेकिन, अगर आप सीसैट को रोजाना एक घंटा भी पढ़ते हैं तो आप उसको आसानी से हल कर लेंगे क्योंकि यह दसवीं के स्तर तक का ही पूछा जाता है।