उड्डयन मंत्री सिंधिया का बड़ा एलान, दरभंगा, रांची सहित देश के कई हिस्सों में बनेंगे टर्मिनल, किसानों को मिलेगी यह सुविधा

jyoti raj scindia

डेस्क : केंद्र सरकार की ओर से ‘कृषि उड़ान 2.0 स्कीम’ की शुरुआत की गयी है। इस स्कीम के तहत पहाड़ी राज्यों और आदिवासी बहुल क्षेत्रों के किसानों को काफी लाभ होगा। नागरिक उड्डयन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने बीते बुधवार को इस योजना की शुरुआत की। मंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी की सरकार का लक्ष्य किसानों की आमदनी को दोगुना करना है। उन्होंने आगे कहा कि किसान की आय दोगुनी करने का मतलब यह नहीं है कि बाजार में उपज की कीमतें बढ़ेंगी।

मंत्री सिंधिया ने आगे कहा कि वह किसानों की उपज को जल्द से जल्द एक स्थान से दूसरे स्थान तक पहुंचाने की व्यवस्था भी कर रहे हैं, ताकि अनाज बर्बाद न हों। सरकार की ओर से कृषि उड़ान 2.0 की शुरुआत की गई है, जिससे कुछ ही वक्त में नष्ट होने वाले वस्तुओं को समय रहते ही एक स्थान से दूसरी स्थान तक पहुंचाया जा सके। इससे कृष उत्पाद की बर्बादी भी न के बराबर होगी और ताजा सामान बेचकर किसान अधिक मुनाफा भी कर सकेगा। मंत्री सिंधिया ने कहा है कि कुल 53 हवाई अड्डों से किसानों के कृषि उत्पाद की आवाजाही आरम्भ हो जायेगी। आगे कहते हैं कि कृषि उड़ान 2.0 योजना की सेवा में आने से कृषि उत्पादों की बर्बादी कम मात्रा होगी। जिससे किसानों को लाभ मिलेगा। कृषि उड़ान योजना 2.0 के तहत घरेलू एयरलाइंस हेतु नागर विमानन मंत्रालय द्वारा लैंडिंग, पार्किंग, टर्मिनल नेविगेशन और लैंडिंग शुल्क में पूरी छूट दिया जाएगा।

कई टर्मिनल किए जाएंगे तैयार नागरिक उड्डयन मंत्री सिंधिया ने कहा कि लेह, नासिक, रांची, श्रीनगर, नागपुर, बागडोगरा, रायपुर सहित गुवाहाटी में मंत्रालय द्वारा टर्मिनल का निर्माण किया जाएगा। साथ ही मंत्रालय ने भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण द्वारा संचालित कुल 53 हवाई अड्डों का चयन किया गया है, जो की कृषि उड़ान 2.0 में कवर किये जायेंगे।

मंत्री सिंधिया ने कहा कि इस योजना के अंतर्गत 8 घरेलू और अंतरराष्ट्रीय व्यापार रूट्स की भी शुरुआत होनी है। इसमें बेबी कॉर्न की ढुलाई संबंधित अमृतसर-दुबई, लीची के परिवहन हेतु दरभंगा को देश के दूसरे हवाई अड्डों से और जैविक खाद्य उत्पादों की परिवहन के लिए सिक्कम से समूचे देश के लिए उड़ान शुरू की होगी। उन्होंने कहा सरकार चेन्नई, विजाग और कोलकाता से पूर्वी एशियाई देशों को सी फूड्स पहुंचाने के लिये उड़ान शुरू करने वाली है। वहीं अनन्नास के लिए अगरतला-दिल्ली-दुबई, मंदारिन नारंगी के लिए डिब्रूगढ़-दिल्ली-दुबई और दाल-दलहन, फल व सब्जियों के लिए गुवाहाटी से सीधे हांगकांग के लिए व्यापारिक उड़ान की शुभारंभ होनी है।

राज्य सरकारों से सेल्स टैक्स घटाने के लिए अनुरोध किया कृषि उड़ान 2.0 की शुभारंभ होते ही मंत्री सिंधिया ने राज्य सरकारों से अनुरोध किया कि वे एविएशन टरबाईन फ्यूल (ATF) पर लिये जाने वाले सेल्स टैक्स में न्यूनतम 1 फीसदी की कमी करें। साथ ही एयरपोर्ट्स ऑफ एयर इंडिया अगरतला, हुबली, इंफाल, जोरहाट,श्रीनगर, डिब्रूगढ़, दीमापुर लीलाबाड़ी, लखनऊ, सिलचर, तुतिकोरिन सहित तेजपुर, तिरुपति में साल 2021-22 में एक शानदार हब और स्पोक मॉडल तैयार करेगी। एविएशन मिनिस्टर सिंधिया ने कहा कि वर्ष 2022-23 में मंत्रालय नस्ट होने वाले वस्तुओं के लिए अहमदाबाद, भावनगर, झारसुगुड़ा, कोझिकोड, मैसुरु, पुडुचेरी, राजकोट समेत विजयवाड़ा में हब और स्पोक मॉडल तैयार किया जाएगा, वहीं साल 2023-24 में आगरा, दरभंगा, गया, ग्वालियर, पेक्योंग, पंतनगर, शिलांग, शिमला सहित उदयपुर और बड़ोदरा में करेगी वहीं साल 2024-25 में होलांगी और सलेम में इसी प्रकार हहब और स्पोक मॉडल्स बनाए जायेंगे।

You cannot copy content of this page