Indian Railways : इस वक्त ट्रेन में आपकी सीट पर कोई दूसरा नहीं बैठ सकता – TT भी नहीं करेगा एक सवाल

TRAIN

डेस्क : देश के अध‍िकतर लोग ट्रेन का सफर पसंद करते हैं. रेल यात्रा आरामदायक और सुरक्ष‍ित भी रहती है. ऐसे में आपको रेलवे (Indian Railway) के न‍ियम पता होना चाह‍िए. रेलवे की तरफ से यात्र‍ियों की सुव‍िधा के लिए न‍ियम बनाए जाते हैं. अगर ट्रेन में यात्रा करने वाला हर यात्री रेलवे के न‍ियमों का पालन करें तो आपका सफर सुविधाजनक हो सकती है.

थ्री टियर कोच में नियम : थ्री टियर कोच में सफर करते समय मिडिल बर्थ वालो को प्रॉब्‍लम होती है.क्योकि लोअर बर्थ वाला यात्री देर रात तक सीट पर बैठा रहता है, इस कारण यात्री आराम नहीं कर पाता. इसके अलावा ऐसा भी होता है क‍ि मिडिल बर्थ वाले यात्री देर रात तक लोअर बर्थ पर बैठे रहते हैं, इस कारण लोअर वाले को परेशानी होती है.

अगर आपकी मिडिल बर्थ हैं तो आप रात 10 बजे से लेकर सुबह 6 बजे तक कभी भी इसको खोल सकते है. आप मिडिल बर्थ को खोल सकते हैं. यद‍ि आपकी लोअर बर्थ है तो रात 10 बजे के बाद आपकी सीट पर म‍िड‍िल या अपर बर्थ वाला यात्री नहीं बैठ सकता. आप उसे रेलवे के न‍ियम बताकर अपनी सीट पर जाने के ल‍िए कह सकते हैं. इसलिए अगर मिडिल बर्थ वाला पैसेंजर दिन या शाम को अपनी सीट खोलता हैं तो आप उसे आग्रह कर मना सकते हैं रेलवे के इस नियम के तहत.

टीटी भी नहीं चेक कर सकता ट‍िकट : ट्रेन में सोने के बाद टीटी टिकट चेक करने के ल‍िए जगा देते हैं.तो ऐसे में उनकी नींद खराब हो जाती है यात्रियों की इस परेशानी को दूर करने के लिए रेलवे के न‍ियमानुसार टीटी रात के 10 बजे से सुबह 6 बजे तक यात्रियों के सोने के दौरान टिकट चेक नहीं कर सकता. लेकिन अगर आपकी यात्रा रात को 10 बजे के बाद शुरू होती है, तो यह नया न‍ियम रेलवे का लागू नहीं होता.

ये भी पढ़ें   अभिनेता Sonu Sood के नाम पर ठगी - खुद को एक्टर का मैनेजर बताकर लुटे पैसे, जानें - पूरा मामला…

बिना ईयर फोन नही सुन पाएगे के गाना : यात्र‍ियों की तरफ से रात को मोबाइल पर तेज आवाज में गाना सुनने या वीड‍ियो देखने पर भी अब पाबंदी है।इसके लिए रेलवे ने रात 10 बजे के बाद ब‍िना ईयर फोन के गाने नही सुन सकते। रात में तेज आवाज में बात करने की भी मनाही है.

यात्री पर हो सकती है कानूनी कार्रवाई : यद‍ि आपका सहयात्री आपकी बात नहीं मानता तो रेलवे स्‍टॉफ की ज‍िम्‍मेदारी है क‍ि मौके पर आकर आपकी समस्‍या का समाधान करे. यद‍ि सह यात्री फ‍िर भी नहीं मानता तो उस पर रेलवे कड़ी कार्रवाई की जा सकती है.