8 February 2023

Waiting Ticket : आखिर कई तरह की होती हैं वेटिंग लिस्ट? पहले कौन टिकट होता है कन्फर्म, जानिए –

waiting list

Indian Railway : अभी फेस्टिव सीजन (Festive Season) चल रहा है और कुछ ही दिन बाद दिवाली (Diwali) भी आने वाली है। दिवाली पर बड़ी संख्या में लोग काफी ट्रैवल (Travel) करते हैं। बड़े शहरों में काम कर रहे कर्मचारी अपनी घरों को लौटते हैं। अधिकतर लोग ट्रेनों के माध्यम से वो यात्रा करते हैं।

यही कारण है कि दिवाली के समय ट्रेनों में कंफर्म सीट (Confirmed Seat in Trains) मिलना काफी ज्यादा मुश्किल हो जाता है। ऐसे में टिकट वेटिंग लिस्ट (Waiting List) में भी चला जाता है। वेटिंग लिस्ट का टिकट कभी कंफर्म होता है कभी नहीं भी। वेटिंग लिस्ट भी अब कई तरह की होती है। आज हम आपको अलग-अलग वेटिंग लिस्ट के बारे में बताने वाले हैं आइए चलिए जानते हैं।

वेटिंग लिस्ट (WL) : जब आप कोई टिकट बुक कराते हो, तो बहुत बार WL का कोड लिखा हुआ आता है। इसका मतलब होता है कि वेटिंग लिस्ट (Waiting List)। यह वेटिंग लिस्ट WL का सबसे आम कोड होता है। यहां आपका टिकट कंफर्म होने की संभावना सबसे ज्यादा होती है। उदाहरण के लिए अगर टिकट में GNWL 7/WL 6 लिखा था, तो इसका मतलब है कि आपकी वेटिंग लिस्ट 6 है। मतलब आपका टिकट उस स्थिति में ही कंफर्म होगा, जब आपके पहले टिकट बुक करने वाले 6 यात्री अपना टिकट तुरन्त कैंसिल करा दें।

RAC : आरएसी कोड का मतलब होता है, Reservation Against Cancelation यानी RAC में दो पैसेंजर को एक ही बर्थ पर यात्रा करने की अनुमति दी जाती है। इसके बाद जिन यात्रियों का टिकट कंफर्म होता है और वे यात्रा नहीं करते, तो उनकी बर्थ आरएसी के तौर पर दूसरे यात्रियों को दे दी जाती है। तत्काल कोटा वेटिंग लिस्ट (TQWL): यह तत्काल कोटा वेटिंग लिस्ट होती है। तत्काल में टिकट बुकिंग करने पर यदि नाम वेटिंग लिस्ट मे आता है, तो यह कोड दिखाई देता है। इसके कंफर्म होने की संभावना काफी कम होती है।

पूल्ड कोटा वेटिंग लिस्ट (PQWL) : इस कोटा का मतलब होता है पूल्ड कोटा वेटिंग लिस्ट । जब किसी लंबी दूरी की ट्रेन में बीच के किन्हीं दो स्टेशनों के बीच यात्रा की जाती है, तो वेटिंग टिकट PQWL में डाल दिया जाता है। यहां किसी भी स्टेशन पर कंफर्म टिकट यदि रद्द होती है, तो पीक्यूडब्ल्यूएल वाले यात्री का टिकट कंफर्म हो जाता है।

नो शीट बर्थ (NOSB) : रेलवे 12 वर्ष से कम उम्र के बच्चों से चाइल्ड फेयर लेता है, लेकिन उन्हें सीट अलॉट नहीं होती है। ऐसे में पीएनआर स्टेट्स में NOSB कोड दिखाई देता है।

रोड साइड स्टेशन वेटिंग लिस्ट (RSWL) : कई बार टिकट पर RSWL कोड लिखा होता है। इसका मतलब है रोड साइड स्टेशन वेटिंग लिस्ट जब टिकट ट्रेन के शुरू होने वाले स्टेशनों से रोड साइड स्टेशन या उसके पास पड़ने वाले स्टेशनों के लिए बुक कराया जाता है, तो यह कोड आता है। इस तरह के वेटिंग टिकट में कन्फर्म होने की संभावना काफी कम रहती है।

रिमोट लोकेशन वेटिंग लिस्ट (RLWL) : रिमोट लोकेशन वेटिंग लिस्ट के कंफर्म होने की संभावना सबसे ज्यादा होती है। यह छोटे स्टेशनों का बर्थ का कोटा होता है। इन इंटरमीडिएट स्टेशनों पर वेटिंग टिकट को RLWL कोड दिया जाता है।