December 1, 2022

Indian Railway : आखिर Bullet Train से भी तेज चलने वाली Vande Bharat में कैसा है इंजन?

VANDE BHARAT

Indian Railway : आजकल देश भर में वंदे भारत या फिर कहें ट्रेन 18 की चर्चा जोरों पर है. क्योंकि इस ट्रेन की सेकेंड जनरेशन ने टेस्ट रन के दौरान बुलेट ट्रेन को भी पछाड़ दिया. वंदे भारत ने केवल 52 सेकेंड में 0 से 100 किमी. प्रति घंटे की रफ्तार भी पकड़ ली. वहीं इस ट्रेन की मैक्सिमम स्पीड 180 से 183 KMPH के बीच रही. अब बात ये उठती है कि इस ट्रेन के इंजन में ऐसा क्या खास है कि इस ट्रेन ने इतनी गति पकड़ी. वहीं इस ट्रेन की थर्ड जनरेशन को लेकर अब क्या बड़े बदलाव होने जा रहे हैं

ट्रेन के इंजन की अगर बात हो तो ये एक सामान्य लोकोमोटिव इंजन ही है. हां इसकी शेप आपको कुछ अलग जरूर दिखती पड़ती है. इस इंजन को सेल्फ प्रोपेल्ड इंजन का नाम दिया गया है. ये तकनीकी तौर पर आम इंजन ही होते हैं लेकिन इनमें कुछ कॉस्मेटिक बदलाव भी होते हैं. आइये जानते हैं वंदे भारत के इंजन के कुछ डीटेल्स…

क्यों खास है वंदे भारत ट्रेन का इंजन

  • वंदे भारत में एक सेल्फ प्रोपेल्ड इंजन है. ये इंजन डिब्बे के साथ ही जुड़ा हुआ होता है इसलिए इसे सेल्फ प्रोपेल्ड नाम दिया गया है.
  • अगर लोकेमोटिव की बात की जाए तो इसका इंजन 6000 HP जनरेट करता है.
  • वहीं इसके साथ 8 डिब्बे इलेक्ट्रिक मोटर से लैस भी हैं. जो इसकी पावर को बूस्ट कर के 12 हजार HP तक ले जाते हैं.
  • इस कारण से इसे सेमि हाईब्रिड कहना कोई गलत नहीं होगा.
  • यही कारण है कि वंदे भारत का पिकअप और टॉप स्पीड अचानक से आसमान छूती है
ये भी पढ़ें   औरतें बिना कपड़ो के अच्छी लगती हैं - विवादित बयान देकर फंसे बाबा रामदेव

इसलिए भी तेज हैं स्पीड : इसके इंजन की खास क्षमताओं के साथ ही वंदे भारत की खासियत इसकी शेप भी है. यह पूरी ट्रेन एयरोडायनमिक शेप में है. इसकी नोज यानि फ्रंट की बात की अगर की जाए तो वो एक कोन शेप का है जो हवा को तेजी से ही काटता है. साथ ही ट्रेन में कहीं भी ऐज नहीं है. ध्यान से देखने पर इस ट्रेन के हर कोने को राउंडनेस या फिर कहें स्लोप भी दिया गया है.

अब होगा बड़ा बदलाव : वंदे भारत की थर्ड जनरेशन को लेकर रेलवे अब बड़ा बदलाव करने जा रही है. रेलवे अब वंदे भारत का लोकोमोटिव इंजन को हटा कर इसे पूरी तरह से इलेक्ट्रिक करने जा रही है. हालांकि इसके लिए ट्रेन के साथ ही ट्रैक में भी अब बड़ा बदलाव करना होगा क्योंकि ये आम इलेक्ट्रिक इंजन की तुलना में 3 से 4 गुना ज्यादा बिजली की खपत करेगी साथ ही प्रदूषण मुक्त होगी।