December 7, 2022

आफताब ने नशे में की थी श्रद्धा की निर्मम हत्या, शव के पास बैठकर रात भर पिया था गांजा..

आफताब ने नशे में की थी श्रद्धा की निर्मम हत्या, शव के पास बैठकर रात भर पिया था गांजा.. 1

डेस्क : चर्चित श्रद्धा वाकर हत्याकांड में दिल्ली पुलिस ने एक बड़ा खुलासा किया है. पुलिस सूत्रों के मुताबिक आफताब को गांजा पीने की लत है.इसको लेकर उसका श्रद्धा के साथ अक्सर झगड़ा भी होता था. आफताब पूनावाला का गांजा पीना प्रेमिका श्रद्धा को पसंद नहीं आता था. आफताब ने पुलिस को पूछताछ में यह बताया है कि जिस दिन उसने अपनी प्रेमिका श्रद्धा की हत्या की थी, उस दिन भी वह गांजे के नशे में ही था. उसने बताया है कि हत्या के बाद वह पूरी रात शव के पास बैठकर ही गांजा फूंकता रहा था. वहीं दिल्ली पुलिस का यह कहना है कि वह हत्या की कड़ियों को जोड़ने के लिए उत्तराखंड के देहरादून भी जा सकती है.

कैसे की श्रद्धा वाकर की हत्या

इस हत्याकांड की जांच कर रही दिल्ली पुलिस ने आफताब पूनावाला को बीते शनिवार को हिरासत में लिया था. इसके बाद अदालत ने उसे 5 दिन की पुलिस हिरासत में सौंप दिया था. दिल्ली के साकेत की एक अदालत ने गुरुवार को आफताब को फिर से 5 दिन के लिए पुलिस को सौंप दिया. पुलिस को उससे कत्ल और शव के टुकड़े करने में इस्तेमाल हथियार और श्रद्धा के शव के टुकड़ों की भी तलाश करनी है.

पूछताछ के दौरान इस मामले के आरोपी आफताब पूनावाला ने दिल्ली पुलिस के सामने कई तरह के खुलासे भी किए हैं. दिल्ली पुलिस के सूत्रों के मुताबिक हत्यारे आफताब बताया है कि वह गांजा पीने का आदी है. उसने बताया है कि गांजे पीने को लेकर श्रद्धा अक्सर टोका-टाकी करती रहती थी . इसी बात पर अक्सर उन दोनों में झगड़ा भी होता था. आफताब पूनावाला ने पुलिस को यह बताया है कि श्रद्धा वाकर का जिस दिन कत्ल हुआ यानी 18 मई के दिन भी वो गांजे के नशे में ही था.

ये भी पढ़ें   Indian Railway : अब ट्रेन में TTE नहीं बेच सकेंगे खाली सीटें, रेलवे ने उठाया ये बड़ा कदम..

शव के पास बैठकर रातभर फूंका गांजा

आफताब ने पुलिस को यह बताया है कि पहले घर का खर्च चलाने और फिर मुंबई से कुछ सामान दिल्ली कौन लाएगा इस बात पर उसकी और श्रद्धा की लड़ाई हुई थी. इसी बात पर दोनों दिन भर लड़ते रहे थे. इसके बाद आफताब घर के बाहर गया और गांजे की सिगरेट पीकर वापस आ गया. आफताब पूनावाला ने बताया वो उसने गांजे के नशे में श्रद्धा का गला इतनी तेज दबाया कि उसने सांस लेना ही बंद कर दिया. उसने बताया है कि 18 मई को रात 9 से 10 बजे के बीच उसने गला दबाकर श्रद्धा वाकर की हत्या की थी. हत्या के बाद वह रात भर श्रद्धा वाकर के शव के पास ही बैठा रहा और गांजे से भरी सिगरेट पीता रहा.