BJP की लटिया डूबी! 6500 कार्यकर्ताओं ने छोड़ा पार्टी का साथ, बोला – ‘सबका साथ, सबका विकास बस…

BJP की लटिया डूबी! 6500 कार्यकर्ताओं ने छोड़ा पार्टी का साथ, बोला - 'सबका साथ, सबका विकास बस… 1

डेस्क : देश के सत्ता पर काबिज भारतीय जनता पार्टी को उत्तर पूर्व के एक राज्य में बड़ा झटका लगा है। दरअसल, त्रिपुरा में एक बड़े आदिवासी नेता हंगशा कुमार ने भाजपा से तिप्राहा स्वदेशी प्रगतिशील क्षेत्रीय गठबंधन में रुख कर गए। बीते मंगलवार को हंगशा कुमार और भाजपा उनके सहयोगी पार्टी इंडिजिनस पीपुल्स फ्रंट ऑफ त्रिपुरा (IPFT) के करीब 6500 आदिवासी कार्यकर्ता टीआईपीआरए में शामिल हो गए। त्रिपुरा के मानिकपुर में एक सार्वजनिक रैली आयोजित किया गया। जिसमें सभी ने भाग लेकर बीजेपी का दामन छोड़ हांगशा कुमार के साथ टीआईपीआरए में शामिल हो गए।

भाजपा के लिए यह एक झटके जैसा है। उत्तर पूर्व के राज्य त्रिपुरा में काफी दमखम रखने वाले आदिवासी नेता हांगशा कुमार के पार्टी को छोड़ जाने पर भाजपा को नुकसान का सामना करना पड़ सकता है। इस जनसभा में हजारों आदिवासी महिला और पुरषों ने हिस्सा लिया। इस दौरान अपने- अपने संबोधन में भाजपा पर जमकर हमला किया। संबोधन के दौरान कहते नजर आए की भाजपा का ‘ सबका साथ सबका विकास’ केवल कहने और सुनने की बात है। इससे वास्तविक में आदिवासी सहित प्रदेश के गैर आदिवासियों का भी कोई लाभ नहीं हुआ है।

हंगशा कुमार फिलहाल 30 सदस्यीय त्रिपुरा जनजातीय क्षेत्र स्वायत्त जिला परिषद (टीटीएएडीसी) के विपक्ष के नेता के तौर पर काम कर रहे हैं। इस जिला परिषद को मिनी-विधान सभा से संबोधित किया जाता है। TTAADC में भाजपा के 9 मेंबर हैं, पिछले वर्ष 6 अप्रैल, 2021 के चुनाव में TIPRA ने अपने साथ कर लिया था।

बता दें कि हांगशा कुमार त्रिपुरा के एक बड़े आदिवासी नेता माने जाते हैं। जिस कारण से इनके साथ बड़ी संख्या में आदिवासी भाजपा और उनके सहयोगी दल को छोड़ कर दूसरे पार्टी में शामिल हो गए इससे आने वाले चुनाव में भाजपा पर काफी असर पड़ेगा। फिलहाल भाजपा और इन नेताओं के बीच वार पलटवार जारी है।

ये भी पढ़ें   फिर से लागू हुई 3 महीने के लिए मुफ्त राशन की स्कीम, केंद्र के फैसले से खिल उठा आम जनता का चेहरा