सभी Tractor में साइलेंसर आगे की ओर क्यों दिया होता है ? एक नहीं इसके अनेकों कारण है – यहाँ जानिए

डेस्क : भारत एक कृषि प्रधान देश है, यहां पर खेत में काम करने के लिए अनेकों उपकरण का इस्तेमाल किया जाता है। ऐसे में सबसे ज्यादा इस्तेमाल किए जाने वाला उपकरण ट्रैक्टर है। अक्सर ही आपने ट्रैक्टर(tractor) की बनावट को देखा होगा। यह आम गाड़ियों की बनावट से बिल्कुल हटके होता है।

ट्रैक्टर को देखकर आपके दिमाग में यह सवाल जरूर आता होगा कि जब बाकी गाड़ियों का साइलेंसर पीछे होता है तो ट्रैक्टर का साइलेंसर आगे क्यों लगा होता है ? आज हम आपको इसी बात का जवाब देने वाले हैं। पहली बात तो यह कोई आलीशान सवारी नहीं है जिसमें आपको शाही अंदाज दिखाना हो और साइलेंसर को घुमा के नीचे से निकालना अनिवार्य हो।

Tractor साइलेंसर आगे क्यों दिया होता है

दरअसल सैलेंसर को नीचे से निकालने के लिए काफी ज्यादा पैसा लगता है जिसके चलते ट्रेक्टर की लागत बढ़ जाती है लेकिन ट्रैक्टर की कीमत को कम रखने के लिए साइलेंसर पाइप काफी छोटा रखा जाता है और उसको आगे की ओर से ही निकाल दिया जाता है। ऐसे में जब भी ट्रैक्टर की मरम्मत करनी होती है तो कभी भी मैकेनिक को नीचे नहीं जाना पड़ता बल्कि वह सारे काम खड़े होकर ही कर लेता है।

कई बार ट्रैक्टर को उबड़-खाबड़ जगह पर जाना होता है। अनेकों बार उसे नाले और पानी जैसी कीचड़ वाली जगहों से गुजारना पड़ता है जिसके चलते साइलेंसर खराब हो सकता है। ऐसे में ट्रैक्टर का साइलेंसर ऊपर रहने की वजह से उसको इन सब परेशानियों से बचने के फायदे मिलते हैं।

ये भी पढ़ें   भारत के झंडे को तिरंगा कहते हैं तो पाकिस्तान के झंडे को क्या बुलाते हैं लोग? एक ही रात को मिल थी आजादी

ट्रैक्टर में पीछे की तरफ आप अनेकों सब्जियां और फल लाद कर ले जा सकते हैं। ऐसे में यदि पीछे साइलेंसर होगा तो उसका सारा धुंआ सब्जी और फलों पर पड़ेगा, इसी के साथ-साथ जब ट्रैक्टर को खेती के लिए इस्तेमाल किया जाता है तो उसमें कल्टीवेटर लगाया जाता है यदि साइलेंसर पीछे हुआ तो पूरी खेत की मिट्टी पर धुआं धुआं हो जाएगा ऐसे में खेती पर भी इसका गहरा प्रभाव पड़ सकता है जिसके चलते फसलों में आग तक लग सकती है। इन सभी कारणों की वजह से ट्रैक्टर के साइलेंसर को आगे की ओर रखा गया है।