बचपन से देख रहे हैं, आज जान लीजिये क्यों टोपी पर लगा होता है ये छोटा सा बटन

CAP Button

गर्मी का मौसम में धूप से बचने के लिए लोग टोपी का इस्तेमाल तो जरूर करते हैं। कभी ना कभी आपने भी टोपी जरूर लगाई होगी। लेकिन कभी आपने ये गौर किया है कि टोपी के ऊपर एक बटन लगा होता है। हो सकता है आपने गौर किया हो और आपके मन में सवाल भी आया होगा कि इसका काम क्या होता है? चलिए हम आज आपको टोपी पर लगे इस बटन के बारे में बताते हैं।

मीडियम वेबसाइट की रिपोर्ट के मुताबिक़, जिन टोपियों पर बटन लगा होता है, उन्हें बेसबॉल कैप कहते है। दरअसल, ऐसी टोपियां बेसबॉल खेलने वाले खिलाड़ी लगाते हैं। हालांकि, इस डिजाइन की टोपियां अब क्रिकेट जैसे खेलों में भी देखने को मिल जाती हैं और आम लोग धूप से बचने के लिए इसका इस्तेमाल करते हैं। टोपी पर लगे इस बटन को ‘स्क्वैची’ या ‘स्क्वैचो’ कहते हैं।

आईए आपको बताते हैं कि इसका क्या काम होता है। अलग-अलग कपड़ों को जोड़कर टोपी का ऊपरी हिस्सा बनाया जाता है। टोपी पर सिले गये सब कपड़ों के टुकड़े टोपी के ऊपर और बीचोंबीच जमा हो जाते हैं जो दिखने में बेहद खराब लगता है। इस छिद्र को ढ़कने के लिए ही साथ ही टोपी के लुक को सुंदर बनाने के लिए गोलाकार बटननुमा आकृति लगाई जाती है।

अब आपके भी मन में यह सवाल आएगा कि इस बटन का इतना अजीबोगरीब नाम कैसे पड़ा। आपको बता दूं कि यह नाम देने का श्रेय जाता है बेसबॉल के कमेंटेटर बॉब ब्रेन्ली को। वह पहले एक खिलाड़ी थे। एक इंटरव्यू में उन्होंने खुलासा किया था कि पहली बार ये नाम उन्होंने 1980 के दौरान सैन फ्रांसिस्को जायंट्स के अपने एक टीममेट से सुना था, जिसका नाम माइक क्रूको था।

ये भी पढ़ें   आखिर Train पटरियों पर ही क्यों चलती हैं, सड़क पर क्यों नहीं? आज अपना कंफ्यूजन दूर कर लीजिए..

जब माइक से पूछा गया कि उन्होंने यह शब्द को कहां सुना? तब उन्होंने बताया कि ये शब्द उन्होंने साल 1984 में पिट्सबर्ग बुकस्टोर में सिंगलेट्स नाम की एक किताब में पढ़ा था। इस किताब में ऐसे शब्द दिए गए थे जो डिक्शनरी में होने चाहिए ते लेकिन नहीं थे। उसी किताब में स्क्वैचो शब्द, टोपी पर लगे बटन के लिए बताया गया था और तब से ही यह शब्द काफी पॉपुलर हो गया।