2 February 2023

आखिर Vande Bharat Express के चेहरे पर नीली पट्टी क्‍यों है? खास रंग की वजह जान लीजिए..

Vande Bharat Express

Vande Bharat Express : देश में रेल एक ऐसा माध्यम है, जो एक बड़े शहर को दूसरे शहर से जोड़ने का काम करता है। ऐसे में कई ट्रेनें चलाई जा रही है, जिससे लोग सफर करते हैं। इसी बीच सरकार ने देश के तीन रूटों पर वंदे भारत एक्सप्रेस का परिचालन शुरू किया। यह ट्रेन अपनी गति को लेकर काफी चर्चा में है।

बता दें कि बीते बुधवार को वंदे भारत एक्सप्रेस चौथे रूट पर भी रवाना कर दिया गया। प्रधानमंत्री मोदी ने हिमाचल के उना में वंदे भारत एक्सप्रेस को हरी झंडी दिखाकर रवाना की। इस ट्रेन से दिल्ली से ऊना तक का सफर महज 5 घंटे में पूरा होगा। इससे लोगों का काफी समय बचेगा।

बता दें कि यह ट्रेन बहुत ही अत्याधुनिक है। वंदे भारत एक्सप्रेस की सीटों को 180 डिग्री घुमाया जाता है। वंदे भारत के हर कोच में ‘कवच’ नाम की ऑटोमैटिक ट्रेन प्रोटेक्शन सिस्टम से लैस चार इमरजेंसी विंडो दी गई हैं। वंदे भारत में दिल्ली से चंडीगढ़ करीब तीन घंटे में पहुंचा जा सकता है। ट्रेन में हवाई यात्रा जैसी सुविधाएं हैं। पहली वंदे भारत ट्रेन दिल्ली-कटरा, दूसरी दिल्ली बनारस और तीसरी गांधी नगर मुंबई के बीच चलाई गई। यह ट्रेन 52 सेकेंड में 100 किमी की रफ्तार पकड़ लेती है। इस ट्रेन में कवच सिस्टम लगाया गया है यानि दुर्घटना होने पर ट्रेन अपने आप रुक जाएगी।

बता दें कि सफेद रंग की इस एरोडायनामिक ट्रेन में नीली पट्टियां भी दी गई हैं। रेलवे अपनी हर स्पेशल ट्रेन को अलग-अलग कलर स्कीम देता है. जैसे दुरंतो और हमसफर बहुरंगी हैं। तेजस एक्सप्रेस के कोच पर डिजाइन बनाए जाते हैं। डबल डेकर पीले और नारंगी रंगों में उपलब्ध है। राजधानी के लाल रंग के डिब्बों का अब कई ट्रेनों में इस्तेमाल हो रहा है।

तेज लोकल मालगाड़ी की होगी शुरुआत : रेलवे हर दिन कुछ नया कर रहा है इसी कड़ी में लोकल ट्रेनों की तर्ज पर हाई स्पीड फ्रेट लोकल के परिचालन का निर्णय लिया है। इसकी शुरुआत मुंबई से दिल्ली तक के लिए होगे। फिलहाल वंदे भारत एक्सप्रेस देश की सबसे तेज चलने वाली ट्रेन है। अब उसी तर्ज पर ‘वंदे भारत ईएमयू’ चलाई जाएगी, जो माल ढुलाई का सबसे तेज तरीका साबित हो सकता है। रेलवे के मुताबिक फल, फूल, सब्जियां या ऐसी कोई भी चीज भेजी जाएगी, जिसकी डिलीवरी जल्दी करने की जरूरत है। ऐसी मालगाड़ी की अधिकतम गति 160 किमी प्रति घंटा होगी।