December 10, 2022

मुघल काल के दौरान दिल्ली में हुई थी अब तक की सबसे बड़ी लूट- 10,50,000 रूपए के साथ ले गए थे नाचने वालियों को

MUGHAL KAAL

डेस्क : नादिर शाह नवाबी या शाही परिवार से ताल्लुक नहीं रखते थे। उसने अपने दम पर अपनी पहचान बनाई और एक सेना खड़ी की। तीस साल की उम्र में वे दुनिया की सबसे शक्तिशाली सेना के कमांडर बन गए।यह 1738 का काल था। मुगल साम्राज्य की बागडोर मोहम्मद शाह रंगीला के हाथों में थी। दिल्ली भारत का सबसे प्रसिद्ध और खूबसूरत शहर बन गया था। शाही दरबार में कला और साहित्य को बढ़ावा दिया जा रहा था। कपड़ा और बर्तनों के साथ प्रयोग कर इसे और बेहतर बनाने के प्रयास जारी थे। विशाल इमारतों और दूर के बाजारों ने अपने समय की कहानियां सुनाईं। धार्मिक स्थलों की संख्या बढ़ती जा रही थी।

दिल्ली की ख्याति बढ़ती जा रही थी। इसी प्रसिद्धि के साथ शहर में उन्हें देखने वालों की संख्या बढ़ती जा रही थी। इसकी खबर नियमित रूप से नादिर शाह तक पहुंच रही थी और एक बड़ी घटना इतिहास में जाकर सब कुछ बदलने वाली थी।जुलाई की उस शाम और नादिर शाह ने प्रवेश किया: नादिर शाह नवाबी या शाही परिवार से ताल्लुक नहीं रखते थे। उनका जन्म ईरानी साम्राज्य की राजधानी से दूर एक क्षेत्र में हुआ था। एक समय था जब वह जंगल से लकड़हारे का काम करता था। वह तीन साल की उम्र में अपने दम पर दुनिया की सबसे शक्तिशाली सेना के कमांडर बन गए।

नादिर शाह का अर्थ है लंबा सख्त आदमी। एक सुंदर काली आंखों वाला शासक अपनी निर्दयता के लिए कुख्यात। उसने अपने विरोधियों को नहीं बख्शा और जी-हुज़ूर के लिए उसका दिल बड़ा था। यह जुलाई 1738 का एक दिन था, जब वह खैबर दर्रे को पार कर भारत पहुंचा। लेकिन दिल्ली अभी दूर थी। वह इस बात से अच्छी तरह वाकिफ थे कि दिल्ली पूरी तरह जश्न में डूबी हुई है। वहां का बाजार सुंदर चीनी वस्तुओं और सोने के शीशे के हुक्के से सजी है, जिन्हें देखने के बाद काबू करना मुश्किल होता है। दिल्ली के बाजार में एक उच्च गुणवत्ता वाली शराब है, जिसे चखने के बाद नहीं रुकती। नादिर शाह तक पहुंचने वाली जानकारी लुभावना थी।

ये भी पढ़ें   आखिर LPG Cylinder में क्यों लिखे रहते हैं ये खास नंबर, जानें - इनका खास मतलब…

दीवारों पर सोने का पानी चढ़ा हुआ था: जहीर उद्दीन दिल्ली के रईसों के बारे में लिखते हैं, जफर खान रोशन-उद-दौला के पास ऐसी संपत्ति थी जिसकी मिस्र के फिरौन ने कभी कल्पना भी नहीं की होगी। जफर का घर सोने के पहाड़ जैसा था। घर की दीवारों पर सोने के पहाड़ लगे थे। छत पर सुनहरे फूल लगाकर इसकी सुंदरता में चार चांद लगा दिए। फर्श रेशमी कालीन से ढका हुआ था। उन्होंने रास्ते में जरूरतमंदों को पैसे दिए।

इतिहास की सबसे बड़ी डकैती:दिल्ली के रईसों की समृद्धि और प्रसिद्धि ने नादिर शाह के दिमाग को लूटने का दबाव बनाया। इसके बाद नादिर शाह ने दिल्ली में जो लूटपाट की उसकी खबर दूर-दूर तक पहुंच गई। इतिहासकारों का मानना ​​है कि उस समय नादिर शाह द्वारा बनाई गई लूट 70 करोड़ रुपये की थी। आज तक यह 156 अरब डॉलर यानी करीब 1.05 लाख करोड़ रुपये है।यह इतिहास की सबसे बड़ी डकैती थी। नादिर शाह की लूट खजाने तक ही सीमित नहीं थी। वह अपने साथ उस युग के कुछ बेहतरीन नर्तकों, हकीमों, वास्तुकारों और अपने क्षेत्र के कई विशेषज्ञों को भी साथ ले गया।

डकैती के बाद राजा टूट गया: उस लूट ने मोहम्मद शाह को बुरी तरह तोड़ दिया। इतिहास ने मुगल साम्राज्य के पतन के लिए मोहम्मद शाह को भी जिम्मेदार ठहराया। साथ ही, कुछ इतिहासकारों का कहना है कि वह एक शासक के इतने बुरे भी नहीं थे। उनके शासनकाल में कला, संस्कृति और इमारतों का भी विकास हुआ। इतिहासकारों का कहना है कि उस लूट के बाद मोहम्मद शाह अपने कई दुश्मनों को हराने में नाकाम रहे। धीरे-धीरे उसके साम्राज्य के साथ-साथ प्रशासनिक संस्थाओं का भी पतन होने लगा।

ये भी पढ़ें   भारत की वो मुगल शहजादी जिसने औरंगजेब की जान बचाकर उसको बादशाह बनवाया और फिर…

नादिर ने हमला किया और अंग्रेजों के भाग्य का खुलासा हो गया: नादिर शाह ने दिल्ली पर हमला किया और दंगा करवाया। इसकी खबर ब्रिटिश ईस्ट इंडिया कंपनी तक पहुंच गई। इस घटना ने अंग्रेजों को मुगलों की कई कमजोरियों से अवगत कराया। इतिहासकारों का मानना ​​है कि अंग्रेजों ने इसका पूरा फायदा उठाया। अगर नादिर शाह ने आक्रमण न किया होता तो ब्रिटिश काल बहुत देर से शुरू होता या नहीं हो पाता।