December 1, 2022

गैंडे की खाल कितनी मोटी होती है ? किसी को बोलने से पहले खुद जान लीजिये

गैंडे की खाल कितनी मोटी होती है ? किसी को बोलने से पहले खुद जान लीजिये 1

शायद आपने ब्योमकेश बख्शी की जासूसी कहानियां पढ़ी होंगी। भले ही आपने इसे नहीं पढ़ा हो, आपने लोगों को यह कहते सुना होगा कि इसकी खाल गैंडे की तरह मोटी होती है। यदि आपने कहानी पढ़ी है, तो एक उल्लेख है कि ‘वह एक कारखाने का चौकीदार है और उसकी खाल गैंडे से भी मोटी है।’ इसका मतलब तो आप समझ ही गए होंगे। त्वचा का अर्थ है त्वचा, शरीर का बाहरी आवरण। यदि कोई कहावत में कहे कि यार, उसकी खाल गैंडे की तरह मोटी हो गई है, तो इसका मतलब है कि वह ऐसा व्यंग्य कर रहा है जिसका उस पर कोई असर नहीं पड़ता। यह एक तरह से बर्बाद है। अब आगे जानिए गैंडे की चमड़ी कितनी मोटी होती है, इसका कोई असर नहीं होता।

गैंडों का वजन 3500 किलोग्राम तक होता है: गैंडे को अंग्रेजी में गैंडा कहा जाता है। दुनिया में पांच प्रजातियां पाई जाती हैं। कुछ गैंडों के एक सींग होते हैं और कुछ के दो। एक गैंडे का औसत वजन 10 क्विंटल या 1000 किलो से अधिक होता है। एक स्वस्थ गैंडे का वजन भी 3,500 किलोग्राम हो सकता है। यह भी कहा जाता है कि गैंडे की खाल इतनी मोटी होती है कि 40-80 मिमी की गोलियां भी उसे प्रभावित नहीं करती हैं। लेकिन गैंडे की खाल बुलेटप्रूफ नहीं होती। यह 6 फीट लंबा और लगभग 10-11 फीट लंबा हो सकता है। भारत में गैंडे मुख्य रूप से असम के काजीरंगा राष्ट्रीय उद्यान में पाए जाते हैं।

सींग इंसान के नाखूनों की तरह होते हैं: नर गैंडों को बैल और मादा को गाय कहा जाता है। उनके सींग हमारे नाखूनों के समान हैं। इनके सींग और इंसान के बाल और नाखून केराटिन प्रोटीन से बने होते हैं। सफेद गैंडे के सींग प्रति वर्ष 7 सेमी बढ़ते हैं और 150 सेमी की रिकॉर्ड लंबाई तक पहुंच सकते हैं।

ये भी पढ़ें   आपके Gas Cylinder में कितनी गैस बची है हिलाकर कर नही..ऐसे में चल जाएगा पता!

सबसे मोटा जानवर: अब बात करते हैं चमड़े की। इसकी त्वचा कई परतों में होती है जो इसे बहुत मोटी और मजबूत बनाती है। आप हाथी को लेकर थोड़ा भ्रमित हो सकते हैं, लेकिन गैंडे की खाल उससे एक इंच मोटी होती है। जी हां, गैंडे की खाल 2 इंच मोटी होती है। अब कल्पना कीजिए कि 2 इंच कितना होता है।

हालांकि, उनमें देखने की क्षमता बहुत कम होती है। यदि कोई व्यक्ति 30 मीटर की दूरी पर भी शांति से खड़ा हो तो वह नहीं देख सकता। वे मुख्य रूप से गंध से जानते हैं। उन्हें कीचड़ में रहना पसंद है। इससे उन्हें भी फायदा होता है। शरीर पर मिट्टी लगाने से उनके शरीर में ठंडक बनी रहती है और कीड़े नहीं काटते। वह एक अच्छे तैराक भी हैं।