9 February 2023

सिर्फ पेशाब ही नहीं बल्कि ये छोटी गलतियां करने पर भी हवाई यात्रा में भुगतना होता है बड़ा नुक्सान

air-hostess

सिर्फ पेशाब करना ही नहीं, ऐसी कई स्थितियां हैं जो किसी यात्री को नो-फ्लाई लिस्ट में डाल सकती हैं। यदि ऐसा होता है तो वह व्यक्ति एक निश्चित समय तक हवाई जहाज से यात्रा नहीं कर पाएगा। जानिए क्या कहती हैं गाइडलाइंस? सिर्फ पेशाब ही नहीं, ये छोटी-छोटी गलतियां की तो फिर नहीं कर सकेंगे फ्लाइट में सफर एयर इंडिया की फ्लाइट में महिला यात्री से पेशाब करने के आरोप में शंकर मिश्रा को गिरफ्तार किया गया है।

शंकर मिश्रा को एयर इंडिया की फ्लाइट में कथित तौर पर एक महिला यात्री पर पेशाब करने के आरोप में बेंगलुरु से गिरफ्तार किया गया है। मुंबई के शंकर मिश्रा को भी उनकी कंपनी ने बर्खास्त कर दिया है। पुलिस मामले की जांच कर रही है और एयर इंडिया के कर्मचारियों को भी बुलाया गया है। वहीं, घटना के बाद डीजीसीए ने एयर इंडिया को नोटिस जारी कर सख्ती दिखाई। एयर इंडिया ने डीजीसीए को एक रिपोर्ट सौंपी है। रिपोर्ट में साफ कहा गया है कि एयर इंडिया ने आरोपी को 30 दिन के लिए सस्पेंड कर दिया है। वे अब 30 दिन तक हवाई यात्रा नहीं कर सकेंगे।

यह सिर्फ पेशाब करने की बात नहीं है, ऐसी कई स्थितियां हैं जो किसी व्यक्ति को नो-फ्लाई लिस्ट में डाल सकती हैं। यदि ऐसा होता है तो वह व्यक्ति एक निश्चित समय तक हवाई जहाज से यात्रा नहीं कर पाएगा। जानिए क्या कहती हैं DGCA की गाइडलाइंस? 2017 में बनाई थी गाइडलाइंस केंद्र सरकार ने: 2017 में फ्लाइट के दौरान यात्रियों के दुर्व्यवहार को रोकने के लिए गाइडलाइन जारी की थी। गाइडलाइंस के मुताबिक अगर कोई यात्री दुर्व्यवहार करता है तो पायलट को रिपोर्ट दर्ज करनी होगी और आंतरिक जांच की जाएगी। जांच के दौरान एयरलाइन के पास उस यात्री को 30 दिनों के लिए नो-फ्लाई लिस्ट में डालने का अधिकार है। यदि एयरलाइन कंपनी एक निश्चित समय के भीतर ऐसा निर्णय लेने में असमर्थ रहती है, तो व्यक्ति उड़ान जारी रख सकता है।

अगर आप ये गलतियां करते हैं तो आप हवाई यात्रा नहीं कर पाएंगे: हालांकि एयरलाइंस यात्रियों के व्यवहार के संबंध में अपने स्वयं के दिशानिर्देश जारी करती हैं, लेकिन वे कई बार विवाद का विषय रहे हैं। ऐसे मामलों को ध्यान में रखते हुए डीजीसीए ने गाइडलाइन जारी की थी कि यात्रियों को नो फ्लाई लिस्ट में कब रखा जा सकता है। अब समझते हैं कि गाइडलाइंस क्या कहती हैं। चालक दल के सदस्यों के काम करने के तरीके में जानबूझकर हस्तक्षेप करने से भी यह कार्रवाई हो सकती है। इसलिए इससे बचें।


शिकायतों के लिए तीन स्तर बनाए गए थे
लेवल-1: नशे की हालत में दूसरों को इशारा करना, धमकाना और परेशान करना लेवल-1 के अंतर्गत आता है।
स्तर-2: किसी को शारीरिक रूप से अपमानित करना जैसे धक्का देना, लात मारना, थप्पड़ मारना आदि।
लेवल-3: किसी की जान को जोखिम में डालना, एयरक्राफ्ट को नुकसान पहुंचाना या लड़ाई-झगड़ा करना लेवल-3 के अंतर्गत आता है।

अगर एयरलाइन कंपनी ने लगाए हैं गलत प्रतिबंध: अगर किसी उम्मीदवार को लगता है कि एयरलाइन कंपनी ने उस पर गलत प्रतिबंध लगाए हैं तो वह नागरिक उड्डयन मंत्रालय के तहत काम करने वाली अपीलीय समिति में आवेदन कर सकता है. यात्री को उसका फैसला मानना ​​होगा