सेहत के लिए जानलेवा है लीची – जानें खरीदने का सही तरीका

jahrili litchie

डेस्क : गर्मियों के मौसम में बाजार में सजे खूबसूरत लीची हर किसी को अपनी तरफ आकर्षित करते हैं। यह खाने में तो स्वादिष्ट होता ही है साथ ही सेहत के लिए अच्छा होता है। लेकिन लीची खरीदने पर स्टोर करने के समय थोड़ा ध्यान रखने की जरूरत है, क्योंकि बिहार में कुछ साल पहले कई बच्चों की मौत की खबर सामने आई थी। लोकल एरिया में इसका कारण चमकी नाम के बुखार को बताया जा रहा था।

हालांकि बाद में डॉक्टर ने बताया कि लीची में मौजूद टॉक्सिंस के कारण बच्चों को एक्यूट एन्सेफेलाइटिस सिंड्रोम हो गया था। लीची काफी खूबसूरत फल होता है और नॉर्थ इंडिया में यह कम समय के लिए आता है। गर्मी से बरसात के सीजन तक यह बाजार में भरा मिलता है। लीची खरीदने के दौरान कुछ बातों का ध्यान रखें। जैसे कि हमेशा पक्की लीची ही खरीदें। कच्ची लीची हरी सी होती है। रेड, पिंक ऑरेंज कलर की ही लीची लें। साथ ही यह साइज़ में छोटी ना हो। पकी लीची से खुशबू आती है और यह दबाने पर भी सॉफ्ट रहती है।

अगर लीची चटकी हुई है धब्बे हैं तो ना ले। इसके अंदर कीड़े भी हो सकते हैं। हमेशा लीची के टिप को चेक करके ही खाएं। गूदे के कलर के कीड़े ही इसमें होते हैं। आपको बता दें कि लीची को खाली पेट नहीं खाने की सलाह दी जाती है। एक्सपर्ट का कहना है कि खाली पेट लीची खाने से इसमें मौजूद टॉक्सिंस नुकसान करते हैं। इसमें मौजूद मिथाईलीन साइक्लोप्रोपीन ग्लाइसिन केमिकल दिमाग़ के भी प्रभावित करता है।

ये भी पढ़ें   औरंगजेब की चालाकी से नहीं बन पाया काला ताजमहल, जानिए इसके पीछे की कहानी