2 घंटे से ज्यादा ईयरफोन पर गाने सुनना आपको बना सकता है बहरा, यकीन नहीं होता तो पढ़िए ये रिपोर्ट

देश के मजबूत स्वास्थ्य के लिए सभी व्यवस्थाओं का दुरुस्त होना जरूरी है। इसी तरह स्वस्थ रहने के लिए शरीर के हर सिस्टम का मजबूत होना भी उतना ही जरूरी है। आज विश्व श्रवण दिवस है। पिछले कुछ वर्षों में, इयरफ़ोन, हेडफ़ोन, या ईयर बड्स का उपयोग करने और अक्सर बड़ी मात्रा में संगीत सुनने का चलन तेजी से बढ़ा है।

तो आज हम बात करेंगे आपके कानों की। सुनने में समस्या, जो पूरी दुनिया में एक गंभीर समस्या है। ताजा रिपोर्ट चंडीगढ़ पीजीआई के ईएनटी विभाग से आई है, जिसमें स्पीच एंड हियरिंग यूनिट के विशेषज्ञों द्वारा एक अध्ययन किया गया और युवाओं में बढ़ती श्रवण समस्याओं पर रिपोर्ट आश्चर्यजनक है। रिपोर्ट के मुताबिक, 24 घंटे में 2 घंटे ईयरफोन पर गाने सुनना खतरनाक साबित हो सकता है।

35 साल से कम उम्र वालों में सबसे ज्यादा शिकायतें : दूसरी ओर, जो युवा दो घंटे से अधिक समय तक अपने ईयरफोन पर तेज आवाज में गाने सुनते हैं, उनमें तेजी से सुनने की क्षमता कम होने का अनुभव होता है। श्रवण हानि 35 वर्ष से कम आयु के युवाओं में अधिक आम है। पहले 45 से 50 वर्ष की आयु के लोग सुनवाई हानि की शिकायत लेकर आते थे। रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि 80 डेसिबल से ऊपर का शोर जानलेवा होता है।

यह सीधे हमारी श्रवण कोशिकाओं को प्रभावित करता है जब युवा ज्यादातर 90 से 100 डेसिबल पर गाने सुनते हैं। साथ ही रिपोर्ट में एक दिन में दो घंटे से ज्यादा ईयरफोन का इस्तेमाल नहीं करने की सलाह दी गई है। आपको बता दें कि यह अध्ययन कम सुनने वाले लोगों की शिकायतों पर आधारित है। तेज आवाज एक तरह का धीमा जहर है, जो हर दिन ईयरफोन लगाने वाले लोगों को नुकसान पहुंचाता है, जिसका लोगों को अंदाजा नहीं होता।

ये भी पढ़ें   पति पत्नी की उम्र में कितना होना चाहिए अंतर - जानिए

भारत में 12 में से 1 व्यक्ति को श्रवण हानि होती है : इंडियन मेडिकल रिसर्च ने 2020 में एक अध्ययन प्रकाशित किया है। इस शोध के अनुसार, भारत में 12 में से 1 व्यक्ति कम सुनने की समस्या से पीड़ित है। भारत की 6.3 प्रतिशत आबादी बधिरता से ग्रस्त है। मैसूर में ऑल इंडिया इंस्टीट्यूट ऑफ स्पीच एंड हियरिंग ऑडियोलॉजी विभाग के एक अध्ययन में पाया गया कि यहां के 66 प्रतिशत लोग आधुनिक गैजेट्स का उपयोग करके संगीत सुनना पसंद करते हैं। इनमें से 8 प्रतिशत को श्रवण हानि होती है। 9.7 फीसदी ने कान बजने की शिकायत की। 4.5 प्रतिशत ने कान की रुकावट का अनुभव किया।

5.6 प्रतिशत लोगों के कान भारी होते हैं : वहीं, 5.6 फीसदी ने अपने कानों में भारीपन महसूस किया। यदि आप पीएलडी, या व्यक्तिगत श्रवण यंत्र का उपयोग करते हैं, तो आपके कान कितनी जोर से सहन कर सकते हैं? इसकी सीमाएं क्या हैं? स्टडी के मुताबिक, सामान्य बातचीत के दौरान 60-65 डेसिबल आवाज पैदा होती है, जो खतरनाक नहीं है।

अगर आपके आसपास शोर का स्तर 90-95 डेसिबल है तो सुनने में समस्या हो सकती है। अगर आपके आसपास शोर का स्तर 125 डेसिबल तक पहुंच जाए तो कान दुखने लगते हैं और अगर यह शोर का स्तर 140 डेसिबल तक पहुंच जाए तो व्यक्ति बहरा हो सकता है।