आखिर मक्का-मदीना में क्यों हिंदुओं का जाना वर्जित है? वजह जानकर गुस्सा आएगा..

Makka Madina

डेस्क : मक्का मदीना को लेकर कई बातें लोगों के दिमाग में चल रही होती है। मक्का मुस्लिम समुदाय के लिए स्वर्ग जैसा माना जाता है। आपने कई बार मुस्लिम समुदाय के लोगों को मक्का मदीना जाते हुए देखा होगा। यदि किसी एक गांव से एक व्यक्ति मक्का जाता है तो उसे पूरा गांव व पंचायत एयरपोर्ट तक छोड़ने चले जाते हैं।

मुस्लिम समुदाय के हर व्यक्ति के मन में एक बार मक्का जाने का ख्याल जरूर आता है। लोग मक्का जाना सपनों में देखा करते हैं। ऐसे में कई बार आपके मन में यह ख्याल भी आया होगा कि मक्का मदीना केवल मुस्लिम ही क्यों जाते हैं। यहां हिंदू को जाना क्यों वर्जित है। तो आइए मक्का और आपके मन में उठ रहे सभी ख्यालों के बारे में जानते हैं।

जानिए मक्का के बारे में : सऊदी अरब में मक्का और मदीना स्थित है। ये दोनों शहर पूरे विश्व भर के मुसलमानों के लिए सबसे पाक स्थान माना जाता है। यहां आने वाले अपने आप को सबसे बड़े भाग्यशाली मानते हैं। इस स्थान पर केवल मुसलमान जा सकते हैं। मक्का मदीना में हर साल हज करने लाखो मुसलमान दुनिया के कोने-कोने से पहुंचते हैं। इस स्थान पर मुसलमान के अलावा कोई दूसरे धर्म के लोग नहीं जा सकते हैं। बता दें कि मक्का मदीना में पैगंबर मोहम्मद की कब्र बनी है। मक्का मदीना को लेकर कई सारी बातें उठते रहते हैं। इसमें शिव जी के होने से लेकर कई हैरान करने वाली बात शामिल है।

हिंदू का जाना क्यों है माना : अब एक बात गौर करने वाली है कि इस स्थान पर हिंदुओं को जाना मना है। बता दें कि मक्का मदीना में केवल हिंदू ही नहीं बल्कि मुसलमान को छोड़ कर किसी भी धर्म के लोगों के जाने पर प्रतिबंध लगा हुआ है। इस धर्म के लोगों का कहना है कि अल्लाह से प्यार करने वाले ही मक्का मदीना जाने के लायक है। अब यह सोचने वाली बात है कि कोई कैसे पहले से ही अनुमान लगा लेगा कि कौन अल्लाह से प्यार करता है और कौन नहीं। लेकिन इस स्थान पर मुसलमान समुदाय को छोड़कर किसी अन्य धर्म के लोगों का जाना वर्जित है। किसी अन्य धर्म के लोग मक्का मदीना में प्रवेश ही नहीं कर सकते हैं। वहां सुरक्षा के कड़े से कड़े इंतजाम किए गए होते हैं।

ये भी पढ़ें   आखिर 1000 को 1K क्यों लिखा जाता है, क्या है इसके मतलब? आज कंफ्यूजन दूर कर लीजिए..

मक्का मदीना को लेकर कई ऐसे अफवाह और सच्चाई है, जो लोगों के बीच समय-समय पर चक्कर लगा लिया करती है। लोग इसमें उलझे रहते हैं, लेकिन यही एक ऐसा धर्म विशेष तीर्थ स्थल है जहां ईद गीत भी किसी अन्य धर्म के लोग नहीं भटक सकते हैं। बाकी किसी भी धर्म के तीर्थ स्थल को देखें तो आसपास के एरिया में आपको कई धर्म के लोग मिल जाएंगे। लेकिन मक्का मदीना में मुसलमान समुदाय के अलावा किसी अन्य धर्म के लोगों का मिलना मुश्किल है।