पिता को कैंसर था, फिर भी नहीं हारी हिम्मत, महज 22 की उम्र में बन गई IAS OFFICER..

डेस्क: संघ लोक सेवा आयोग (UPSC) जो पूरे भारत में सबसे कठिनतम परीक्षा में से एक माना जाता है। हर साल लाखों छात्र-छात्राएं अपने सपने के उड़ान को लेकर इस एग्जाम में बैठते हैं। लेकिन, उनमें से कुछ चुनिंदा व्यक्ति ही इस एग्जाम को क्रैक करा कर पाते हैं। यूपीएससी एग्जाम (UPSC Exam) की तैयारी के लिए फिजिकल और मेंटल हेल्थ काफी जरूरी है, लेकिन इसी बीच आप लोगों एक ऐसे छात्रा से परिचित करवाएंगे, जो महज 22 की उम्र में ही इस एग्जाम को क्रैक कर अपने सपनों को पूरा कर लिया।

हम बात कर रहे हैं, पंजाब की रहने वाली रितिका जिंदल की.. जो कड़ी मेहनत और लगन से महज 22 साल की उम्र में यूपीएससी परीक्षा पास कर परिवार वालों का नाम रोशन कर दिया। हालांकि इस सफलता के दौरान उन्हें कई चुनौतियों का सामना करना पड़ा। लेकिन उन्होंने कभी हिम्मत नहीं हारी और वह अपने गोल पर हमेशा फोकस रहीं। रितिका के पिता उनकी UPSC की तैयारी के दौरान कैंसर से जूझ रहे थे। लेकिन इन सब चीजों के बावजूद उन्होंने अपनी तैयारी में कोई कमी नहीं छोड़ी और दूसरे ही अटेम्प्ट में टॉपर बन गईं।

बचपन से बनना चाहती थी IAS ऑफिसर:

बताते चलें कि रितिका बचपन से ही आईएएस बनना चाहती थी, वे कहती हैं वे पंजाब की हैं जहां के बच्चे लाला लाजपत राय और भगत सिंह की कहानियां सुनकर बड़े होते हैं। वे भी इन्हीं कहानियों को सुनती हुई बड़ी हुईं थी और उस उम्र से ही देश के लिए और देश की जनता के लिए कुछ करना चाहती थी, अंततः उन्होंने यूपीएससी सीएसई परीक्षा का चुनाव किया और सही समय आने पर इस दिशा में कदम बढ़ाया।

महज 22 की उम्र में बन गई IAS:

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, पहले प्रयास में असफलता के बाद रितिका जिंदल (Ritika Jindal) ने कड़ी मेहनत की और साल 2018 में दूसरे प्रयास में सिविल सर्विसेस परीक्षा में ऑल इंडिया में 88वीं रैंक हासिल कर अपने बचपन का सपना पूरा किया। उस समय रितिका की उम्र सिर्फ 22 साल थी।O

एग्जाम से पहले पिता को हो गया था कैंसर:

रितिका के लिए IAS बनना इतना सा नहीं था, क्योंकि जब वह पहली बार UPSC एग्जाम की तैयारी कर रही थीं तब उनके पिता टंग कैंसर (Oral Cancer) के शिकार हो गए और इस वजह से रितिका की पढ़ाई भी प्रभावित हुई। वहीं जब रितिका दूसरी बार एग्जाम की तैयारी कर रही थीं, तब उनके पिता को लंग कैंसर हो गया। रितिका के लिए यह काफी कठीन समय था, लेकिन इसके बावजूद उन्होंने मुश्किलों का सामना करते हुए तैयारी जारी रखी।

You may have missed

You cannot copy content of this page