आप रिटायरमेंट के बाद चाहते हैं 1 लाख रुपये की पेंशन, ऐसे करें निवेश..

retirement paisa

डेस्क : हर इंसान चाहता है कि रिटायरमेंट के बाद उनका जीवन आरामदायक हो और पैसों की कोई चिंता न हो। साथ ही व्यक्ति के हिसाब से आरामदायक जीवन की परिभाषा और रकम में फर्क होता है। तो हम मान के चलते हैं कि रिटायरमेंट के बाद बगैर पैसों की चिंता के जीवनयापन करने के लिए 1 लाख रुपये की मासिक पेंशन की जरूरत होगी। तो जिसके बाद ये सवाल उठता है कि किन निवेश उपाय से आप अपनी रिटायरमेंट के बाद इतनी रकम पा सकते हैं।

Indian Money
आप रिटायरमेंट के बाद चाहते हैं 1 लाख रुपये की पेंशन, ऐसे करें निवेश.. 4

मिंट द्वारा साझा लेख में ऑप्टिमा मनी मैनेजर्स के एमडी व सीईओ पकंज मठपाल ने कहा है कि “1 लाख रुपये की पेंशन पाने के लिए शख्स को सिस्टमैटिक विड्रॉल प्लान में निवेश करना चाहिए। निवेशक कंजर्वेटिव या हाइब्रिड एसडब्ल्यूपी चुन सकता है जो हर साल 7-8 फीसदी का रिटर्न देकर महंगाई को मात दे सकते हैं। मुद्रास्फीति को ध्यान में रखते हुए एक निवेशक को 1 लाख रुपये की पेंशन के लिए एसडब्ल्यूपी में 2.76 करोड़ रुपये का फंड चाहिए होगा।”

business ideas in 30 thousand rupees
आप रिटायरमेंट के बाद चाहते हैं 1 लाख रुपये की पेंशन, ऐसे करें निवेश.. 5

म्यूचुअल फंड्स : टैक्स एंड इन्वेस्टमेंट एक्सपर्ट जितेंद्र सोलंकी ने बताया कि “अगर 30 साल से आप पेंशन के लिए रकम जुटाना शुरू कर रहे हैं तो आमतौर पर इसे रिटायरमेंट से 30 साल आगे तक के लिए जुटाया जाता है। यानी आप 60-90 साल के लिए पेंशन फंड तैयार कर रहे हैं और इसके लिए आपके पास केवल 30 साल का समय है। अगर आपके पास एकमुश्त पैसा जमा करने के लिए नहीं है तो आप म्यूचुअल फंड एसआईपी का चयन करें इससे लंबी अवधि में आप मुद्रास्फीति को मात दे पाएंगे।”

ये भी पढ़ें   खुशखबरी! सरिया और सीमेंट के भाव में आई तगड़ी गिरावट - नया रेट जान खिल उठेगा चेहरा..

कितना करें निवेश : मालूम हो जो व्यक्ति म्यूचुअल फंड में निवेश कर रहा हो वो एक लंबे समय में 15 फीसदी के रिटर्न की उम्मीद रख सकता है। अगर कोई व्यक्ति 2.76 करोड़ रुपये एकत्रित करना चाह रहा है तो उसे हर साल एसआईपी में 10% तक की बढ़त कर देनी चाहिए। मान लिया जाए की म्यूचुअल फंड 15% तक का वार्षिक रिटर्न दे रही है और आप प्रति वर्ष 10% का इजाफा कर रहे हैं तो आपको 30 की उम्र में 2,200 रुपये से एसआईपी की शुरुआत करनी पड़ेगी। निवेशक 30 साल में 43,42,642 रुपये निवेश करेगा और 30 साल बाद उसका कुल निवेश बढ़कर 2,35,94,709 रुपये हो जाएगा।