नया घर बनाने वालों की बल्ले बल्ले! आधी हो गई सरिया, सीमेंट-बालू की कीमत, जानें – मार्केट का ताजा रेट –

iron red balu three

डेस्क : देश में लगातार बढ़ रही महंगाई से हर कोई परेशान है। खासकर, पेट्रोल-डीजल और खाद पदार्थ के बढ़ते दामों ने आमलोगों की कमर तोड़ कर रख दी है। ऐसे में घर बनाने के सामान भी सातवें आसमान पर है। लेकिन, इसी बीच एक मौज वाली खबरें निकलकर सामने आई है।

आपको बता दें की घर बनाने में इस्तेमाल होने वाली जिन प्रमुख सामग्रियों के भाव कुछ महीने पहले आसमान पर थे, वे हालिया समय में काफी कम हुए हैं। सिर्फ सरिये की ही बात करें तो पिछले दो-तीन महीने में इसका रेट आधा रह गया है। बीते कुछ दिनों में सरिया के भाव में 1,100 रुपये प्रति टन तक की गिरावट आई है। इसके अलावा सीमेंट से लेकर ईंट और बालू तक की कीमतें गिरी हुई हैं।

आपको बता दे की बीते दिनों कुछ ऐसे घटनाक्रम हुए हैं, जिनके कारण भवन निर्माण सामग्रियों की कीमतें कम हुई हैं। सबसे पहले तो सरकार ने घरेलू बाजार में कीमतें नियंत्रित रखने के लिए स्टील पर एक्सपोर्ट ड्यूटी बढ़ा दी। इसके कारण घरेलू मार्केट में स्टील के उत्पादों के दाम तेजी से गिरे। सरिया की कीमतों में आई कमी की मुख्य वजह यही है। वही, बारिश का मौसम शुरू होते ही निर्माण कार्यों में कमी आने लगती है, जिससे बिल्डिंग मटीरियल्स की डिमांड खुद ही कम होने लगती है। रियल एस्टेट सेक्टर के बुरे हालात भी इस समय सहयोग कर रहे हैं। इन कारणों से ईंट, सीमेंट, सरिया यानी छड़, रेत जैसी चीजों की डिमांड निचले स्तर पर है।

अगर सरिये की कीमत की बात करें तो इसका भाव महज दो महीने पहले यानी मार्च 2022 में आसमान छू रहा था। मार्च में कुछ जगहों पर सरिये का भाव 85,000 रुपये टन तक पहुंच गया था। अभी यह घट कर 44 हजार रुपये टन के पास आ गया है। सिर्फ इसी सप्ताह सरिये के भाव में 1000 रुपये से ज्यादा की गिरावट देखने को मिली है। सिर्फ लोकल ही नहीं बल्कि ब्रांडेड सरिये का भाव भी पिछले कुछ महीनों में काफी कम हुआ है। अभी ब्रांडेड सरिये का भाव कम होकर 80-85 हजार रुपये प्रति टन पर आ गया है.

ये भी पढ़ें   SBI ग्राहकों की बल्ले-बल्ले! व‍ित्‍त मंत्री ने क‍िया ये बड़ा ऐलान, जानकर खुश हो जाएंगे आप..

सरिया की औसत खुदरा कीमत (रुपये प्रति टन):

  • नवंबर 2021 :      70,000
  • दिसंबर 2021 :    75,000
  • जनवरी 2022 :    78,000
  • फरवरी 2022 :    82,000
  • मार्च 2022 :        83,000
  • अप्रैल 2022 :      78,000
  • मई 2022 (शुरुआत) :    71,000
  • मई 2022 (अंत):           62-63,000
  • जून 2022 (शुरुआत):    48-50,000
  • जून 2022 (09 जून):     47-48,000