बेटी के नाम पर केवल 250 रूपए में खुलवाएं खाता, मिलेंगे 35 लाख तक के फायदे, जानें ये सरकारी स्कीम

Sukanya Samriddhi Yojana

Sukanya Samriddhi Yojana : आम आदमी या मध्यम वर्ग की श्रेणी में आने वाले परिवारों के लिए अच्छी खबर है। अकसर इस श्रेणी के लोग अपनी बेटी की पढ़ाई और उसकी शादी में होने वाले खर्चों को लेकर चिंतन करते रहते हैं। पर अब आपको इसके लिए परेशान होने की कोई जरूरत नहीं है।

अब आपको हर दिन केवल 8 से 10 रुपय बचाने होंगे और आपको इस चिंता से छुटकारा मिल जाएगा। सुकन्या समृद्धि योजना (Sukanya Samriddhi Yojana) एक ऐसी सरकारी स्कीम है, जहां आप बेहद ही कम पैसों का निवेश कर एक मोटी रकम पा सकते हैं। साथ ही आप अपनी बेटी के भविष्य को सुरक्षित भी कर सकते हैं।

सुकन्या समृद्धि योजना (SSY) के जरिए बेटियों के भविष्य को निश्चित रूप से सुरक्षित किया जा सकता है। इसके तहत एक माता-पिता या गार्जियन बेटी के नाम पर केवल अकाउंट खुलवा सकते हैं। सुकन्या समृद्धि योजना के तहत इस अकाउंट को आप किसी पोस्ट ऑफिस या कमर्शियल ब्रांच की अधिकृत शाखा में खुलवा सकते हैं।

योजना में खाता खुलवाने के लिए आपको फॉर्म के साथ पोस्ट ऑफिस या बैंक में अपनी बेटी का बर्थ सर्टिफिकेट प्रमाण के तौर पर जमा करना होगा। इसके अलावा बच्ची और माता-पिता का पहचान पत्र (पैन कार्ड, राशन कार्ड, ड्राइविंग लाइसेंस, पासपोर्ट) और जहां रह रहे हों उसका प्रमाण पत्र (पासपोर्ट, राशन कार्ड, बिजली बिल, टेलीफोन बिल, पानी का बिल) जमा कराना होगा।

इस स्कीम में आप कम से कम 250 रुपए और अधिकतम डेढ़ लाख रुपए तक का निवेश कर सकते हैं। इस खाते को खुलवाने से आपको बेटी की पढ़ाई और आगे होने वाले खर्च से काफी राहत मिलेगी। इसमें एक बेटी के नाम पर केवल एक ही अकाउंट खोला जा सकता है। यदि किसी अभिभावक की दो बेटियां हैं तो दोनों के नाम पर अलग-अलग खाते खुलवाने होंगे।

ये भी पढ़ें   नवरात्री में सस्ता हुआ LPG Cylinder - अब महज 587 रुपए अपने घर ले जाइए, जानें -कैसे ?

मालूम हो वर्तमान में इस योजना के तहत 7.6 फीसदी की दर से ब्याज दिया जा रहा है। साथ ही इस पर इनकम टैक्स में भी छूट भी मिलेगी। अगर इस योजना के तहत आप हर महीने 3000 रुपये का निवेश करते हैं यानी सालान 36000 रुपये तो 14 साल बाद 7.6 फीसदी सालाना कंपाउंडिंग के हिसाब से आपको 9,11,574 रुपये मिलेंगे। 21 साल यानी मेच्योरिटी पर लगभग 15,22,221 रुपये हो जाएंगे।