SBI ग्राहकों के लिए अच्‍छी खबर! FD पर बढ़ सकती है ब्‍याज दर, जानिए विस्तार से..

sbi FD Rates

डेस्क : SBI ने फिक्स्ड डिपॉजिट (FD) पर ब्याज दरें बढ़ाने का ऐलान किया है। यह घोषणा ऐसे समय में की गई है जब रिजर्व बैंक ने एक दिन पहले रेपो रेट 0.50 प्रतिशत बढ़ाकर 4.90 प्रतिशत कर दिया है। रेपो रेट बढ़ाने के बाद सभी बैंक एक के बाद एक ब्याज दरों में बढ़ोतरी कर रहे हैं।

इससे पहले मई में भी रेपो रेट में बढ़ोतरी की गई थी : देश के सबसे बड़े बैंक SBI ने अपने करोड़ों ग्राहकों को महंगे कर्ज मिलने के बीच एक खुशखबरी दी है। SBI ने फिक्स्ड डिपॉजिट (FD Rate) पर ब्याज दरों में बढ़ोतरी का ऐलान किया है. यह ऐलान ऐसे समय में किया गया है जब रिजर्व बैंक ने एक दिन पहले रेपो रेट (RBI रेपो रेट हाइक) को 0.50 फीसदी बढ़ाकर 4.90 फीसदी कर दिया है। रेपो रेट बढ़ाने के बाद सभी बैंक एक के बाद एक ब्याज दरों में बढ़ोतरी कर रहे हैं.

indian-rupees-5

SBI चेयरमैन ने दी यह जानकारी : SBI के चेयरमैन दिनेश कुमार खारा ने आज तक एफिलिएट चैनल बिजनेस टुडे को दिए इंटरव्यू में यह जानकारी दी। उन्होंने कहा कि रिजर्व बैंक का रेपो रेट बढ़ाने के बाद एसबीआई अब एफडी पर ज्यादा ब्याज देगा। उन्होंने कहा, ‘जहां तक ​​नई एफडी दरों का सवाल है, वे भी नई ब्याज दरों के अनुकूल होंगी। हम पहले ही कई मैच्योरिटी वाली जमाओं के लिए ब्याज दरों में वृद्धि कर चुके हैं।

RBI की इस घोषणा में आपका स्वागत है : फिलहाल स्टेट बैंक ऑफ इंडिया 12-24 महीने की अवधि के लिए एफडी पर 5.10 फीसदी की दर से ब्याज दे रहा है। इसी तरह 3 से 5 साल की अवधि के लिए ब्याज दर 5.45 फीसदी है. चेयरमैन ने कहा, ‘कई ऐसे कर्ज हैं जिनकी दरें परिवर्तनीय ब्याज बाकी बेंचमार्क से जुड़ी हैं। अब ऐसे कर्ज के मामले में ब्याज दरें बढ़ेंगी। उन्होंने यूपीआई के साथ क्रेडिट कार्ड को जोड़ने की अनुमति देने के लिए आरबीआई की घोषणा का भी स्वागत किया। अभी इसकी शुरुआत RuPay कार्ड से होने जा रही है। आने वाले समय में Visa और Mastercard आदि को भी UPI से जोड़ा जा सकता है.

ये भी पढ़ें   बुढ़ापे की चिंता ख़त्म! इस योजना से आखिरी सांस तक मिलेगा पैसा

मई-जून में इतना बढ़ा रेपो रेट : SBI ने ग्राहकों को यह खुशखबरी तब दी है, जब एक के बाद एक बैंक लोगों को दिए जा रहे हैं। आरबीआई ने पिछले महीने से रेपो रेट बढ़ाना शुरू कर दिया है। इसके बाद से सभी बैंकों ने ब्याज दरों में बढ़ोतरी की है। कुछ बैंकों ने पिछले डेढ़ महीने में दो-दो बार ब्याज दरें बढ़ाई हैं। रिजर्व बैंक ने मई में रेपो रेट में 0.40 फीसदी और उसके बाद जून में 0.50 फीसदी की बढ़ोतरी की थी. रेपो रेट बढ़ने के बाद ज्यादातर बैंक कर्ज पर ज्यादा ब्याज वसूल रहे हैं, लेकिन उन्होंने जमा पर मिलने वाले लाभ को ग्राहकों तक नहीं पहुंचाया है.