31 January 2023

ग्राहकों के लिए बड़ी खुशखबरी! आचनक सस्ता हुआ सरसों का तेल, जानें – लेटेस्ट रेट

sarso oil price hike

डेस्क : बढ़ती महंगाई के चलते जहां आम जनता बेहद परेशान दिख रहा है वहीं महंगाई के मोर्चे पर ग्राहकों के लिए एक अच्छी खबर भी है. दरअसल, विदेशी बाजारों में गिरावट के रुख के बीच दिल्ली तेल-तिलहन बाजार में बुधवार को लगभग सभी खाद्य तेल-तिलहनों की कीमतों में गिरावट भी देखने को मिली.

वहीं ‘शॉर्ट सप्लाई’ के कारण सोयाबीन डीगम तेल के दाम पूर्वस्तर पर ही बने रहे. बाजार सूत्रों ने कहा कि मलेशिया एक्सचेंज में 1.75 फीसदी की गिरावट है जबकि शिकॉगो एक्सचेंज कल रात 2.25 फीसदी टूटा था और फिलहाल इसमें आधा फीसदी का सुधार है.

सूत्रों के मुताबिक कि मौजूदा स्थिति तेल उद्योग के लिए काफी ज्यादा खराब है. आयातकों के बाद अब छोटी तेल मिलों की हालत भी खराब हो रही है. इनके पास से किसान नीचे भाव में अपना माल ला ही नहीं रहे. हालांकि, मौजूदा बाजार भाव न्यूनतम समर्थन मूल्य MSP से अधिक है पर किसानों को इससे पहले कहीं बेहतर कीमत मिलने के बाद वे उससे कम कीमत पर बेचने से कोताही भी कर रहे हैं.

किसानों की बढ़ रही हैं अब चिंता

दूसरी तरफ कोटा प्रणाली के तहत शुल्कमुक्त आयातित तेलों की कम कीमतों ने देशी तेल-तिलहनों पर इस कदर दबाव बनाकर रखा है कि किसानों को सोयाबीन के बाद आगामी सरसों की फसल खपाने की चिंता बढ़ती ही जा रही है. सबसे चिंताजनक बात तो यह है कि तेल उद्योग की इस बुरी हालत के बारे में न तो कोई तेल संगठन न ही कोई मीडिया- कोई भी खोज खबर लेने वाला हैं