RBI ने ATM और क्रेडिट कार्ड धारकों के लिए जारी किए ये आदेश – जान लीजिए नहीं तो हो सकती है धोखाधड़ी!

RBI ON DEBIT CARD

डेस्क : 30 सितंबर 2022 तक भारतीय रिजर्व बैंक ने डेबिट और क्रेडिट कार्ड को अनिवार्य रूप से टोकन से बदलने के लिए कहा है। कंपनी के पास टोकनाइजेशन सिस्‍टम आने के बाद आपका डेटा सेव नहीं रहेगा। इससे क्रेडिट और डेबिट कार्ड पर होने वाली धोखाधड़ी में कमी आएगी। टोकन सिस्‍टम कैसे काम करता है और इससे आपके कार्ड का डेटा कैसे सुरक्षित रहेगा, आईए जानते हैं-

टोकन सिस्‍टम से अब डेबिट और क्रेडिट कार्ड का पूरा डेटा ‘टोकन’ में बदल जाता है और आपके कार्ड की जानकारी डिवाइस में छिपाकर रखी जाती है। आरबीआई के कहा है कि टोकन बैंक पर रिक्वेस्ट कर कोई भी शख्‍स कार्ड को टोकन में बदल सकता है। कार्ड धारक को कार्ड को टोकन में बदलने के लिए कोई शुल्क नहीं देना है। आप अगर अपने कार्ड को टोकन में बदल देंगे तो आपके कार्ड की किसी भी शॉपिंग वेबसाइट या ई-कॉमर्स वेबसाइट पर जानकारी को टोकन में सेव किया जा सकेगा।

आप आसानी से टोकन में बदलने से कार्ड का उपयोग कर सकेंगे। आपके कार्ड को ऑनलाइन धोखाधड़ी करने वालों से भी ये सिस्टम सुरक्षित रखेगा। ग्राहकों की सुरक्षा के लिए आरबीआई ने यह नियम बनाया है। कार्ड की जानकारी जैसे नंबर, सीवीवी और समाप्ति तिथि की जानकारी व्यापारियों के डेटाबेस में पेमेंट करने में आसानी के लिए बनी रहती है। इस डेटा से जुड़ा सिक्योरिटी जोखिम बना हुआ रहता है। आरबीआई के मुताबिक, कोई भी डेबिट या क्रेडिट कार्ड की जानकारी कार्ड जारी करने वाला या नेटवर्क के अलावा नहीं रख सकता। यदि उनके पास पहले से डेटा सेव है तो उसे हटाना जरूरी होगा।

ये भी पढ़ें   7वें आसमान से धड़ाम हुआ Gold – 6197 रुपये प्रति 10 ग्राम से ज्यादा हुआ सस्ता..

इसके लिए किसी भी ई-कॉमर्स वेबसाइट या एप्लिकेशन पर जाएं और वहां खरीदारी करने के बाद भुगतान लेनदेन शुरू करें। आप अपना कार्ड सिलेक्‍ट करें। पेमेंट करते समय अपने डेबिट या क्रेडिट कार्ड की जानकारी और मांगी गई अतिरिक्त जानकारी दर्ज करें। अपना कार्ड सिक्योर कर ले। आरबीआई के दिशानिर्देशों के मुताबिक, अपने कार्ड को टोकनाइज़ करें या फिर आरबीआई दिशानिर्देशों के अनुसार अपने कार्ड को सुरक्षित करें विकल्प चुनें।

इसके बाद टोकन के क्रिएशन को ऑथराइज करें। अब लेन-देन पूरा करने के लिए ओटीपी दर्ज करें जो आपके बैंक ने आपके मोबाइल फोन या ईमेल पर भेजा गया है। अब एक टोकन बनाएं और आपके कार्ड के डेटा को इसके बाद एक टोकन से बदल दिया गया है। पेमेंट करते समय इस बार अपने कार्ड को पहचानने में आपकी मदद करने के लिए आपके सेव किए गए कार्ड के आखिरी चार नंबर दिखाई देंगे। यानी कि अब आपका कार्ड टोकन हो गया है।