आम आदमी की बल्ले बल्ले! आधे से भी कम हो जाएंगे सरसों तेल के भाव- सरकार ने बनाया जबरदस्त प्लान…

sarson tel ki keemat

डेस्क : देश में लगातार बढ़ रही महंगाई के बीच आम लोगों के लिए एक मौज वाली खबरें सामने आई है। दरअसल, सरकार कच्चे पाम तेल के शिपमेंट पर हाल ही में इंडोनेशियाई प्रतिबंध के बाद कीमतों में बढ़ोतरी को कम करने के लिए खाद्य तेल आयात पर लगाए गए सेस चार्ज में कमी करने पर विचार कर रही है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, उपभोक्ता मामलों खाद्य और सार्वजनिक वितरण मंत्रालय द्वारा 5% एग्रीकल्चर इंफ्रास्ट्रक्चर डिवेपमेंट सेस (AIDC) में कटौती का प्रस्ताव देने  की संभावना है। वित्त मंत्रालय में राजस्व विभाग द्वारा अंतिम निर्णय लिया जाएगा। वहीं, इंडोनेशियाई प्रतिबंध के बाद भारत ताड़ के तेल की आपूर्ति के लिए वैकल्पिक चैनलों की खोज कर रहा है। सूत्रों के मुताबिक, भारत के राजनयिक चैनलों के माध्यम से ताड़ के तेल के दुनिया के सबसे बड़े निर्यातक इंडोनेशिया के साथ जुड़ने की भी संभावना है और वैश्विक स्तर पर निर्यात प्रतिबंध पर द्विपक्षीय वार्ता भी कर सकते हैं।

sasta hua sarso ka tel

एक सरकारी अधिकारी की माने तो पास में वैकल्पिक खाद्य तेल उपलब्ध हैं, लेकिन असली चिंता कीमतों को लेकर है। उसके लिए हम ड्यूटी में कटौती कर सकते हैं। खाद्य तेल की कीमतों को स्थिर करने के लिए कृषि उपकर में कटौती की जा सकती है। हालांकि, इंडोनेशिया द्वारा प्रतिबंध के कुछ ही हफ्तों में उलट होने की संभावना है। गौरतलब है कि भारत इंडोनेशिया से पाम तेल का सबसे बड़ा आयातक है। यह सालाना लगभग 9 मिलियन टन ताड़ के तेल का आयात करता है और भारत के कुल खाद्य तेल खपत बास्केट में इस जिंस की हिस्सेदारी 40% से अधिक है।

ये भी पढ़ें   1 जुलाई से लागू होगा नया लेबर कोड, सप्ताह में 4 दिन काम के बाद मिलेगी 3 दिन की छुट्टी..