खुशखबरी! आटा, चीनी और तेल हुआ सस्‍ता – हरी सब्‍ज‍ियों का भी बदलेगा भाव..

डेस्क : देश में लगातार बढ़ रही महंगाई के बीच आम लोगों के लिए एक राहत भरी खबर सामने आई है। आपको बता दें कि इस समय लोग काफी सस्ती सब्जियों का लुत्फ उठा रहे हैं, लेकिन टमाटर की कीमत पूरा मजा बिगाड़ रही है। बारिश के बाद हरी सब्जियों के दाम बढ़ तो सकते हैं, वहीं दूसरी ओर टमाटर के दाम में 15 से 20 दिन में कमी आने की पूरी उम्मीद है। इस बीच एक राहत की खबर यह भी है कि सरसों के तेल की कीमत में 5 रुपये प्रति लीटर की कमी आई है। इसमें और राहत मिलने की उम्मीद है। इसके साथ ही गेहूं और चीनी की कीमतों में भी कमी आ सकती है। हालांकि, इनकी कीमतें अभी स्थिर हैं।

तेल में और गिरावट की आशंका नज़र आ रही : सरसों के तेल की कीमत 5 रुपये घटकर 170 से 200 रुपये प्रति लीटर हो गई है। राहत के बाद रिफाइंड सोया की कीमत 180 रुपये हो गई है, जबकि पाम तेल की कीमत 150 रुपये हो गई है। बिहार रिटेलर्स फेडरेशन के महासचिव रमेश तलरेजा ने कहा कि खाद्य तेलों में यह नरमी आई है। इंडोनेशिया से खाद्य तेलों के आयात पर समझौता होने के बाद। अब नए कदम के तहत केंद्र सरकार द्वारा आयातित सूरजमुखी और सोयाबीन तेल को शुल्क मुक्त कर दिया गया है। इसलिए खाद्य तेलों में और नरमी पांच से दस रुपये प्रति लीटर हो सकती है।

गेहूं और चीनी की कीमत घटेगी : उन्होंने कहा कि महंगाई पर काबू पाने के लिए केंद्र सरकार सकारात्मक फैसले ले रही है. गेहूं निर्यात को प्रतिबंधित सूची में डालने के बाद चीनी को भी इस सूची में डाल दिया गया है। हालांकि इसका असर अभी आना बाकी है। गेहूं की कीमत 25-40 रुपये प्रति किलो और चीनी की कीमत 44-45 रुपये प्रति किलो पर स्थिर बनी हुई है। उम्मीद की जा रही है कि इनकी कीमतों में भी दो से तीन रुपये प्रति किलो तक की राहत मिल सकती है. गेहूं की कीमतों में गिरावट के साथ आटा, मैदा आदि की कीमतों में भी गिरावट आ सकती है।

ये भी पढ़ें   अगर आपके पास भी Tractor वाला 5 रुपए का नोट है तो मिलेंगे पूरे 2 लाख रूपए, जानें - पूरा प्रोसेस..

टमाटर लाल, खरीदार परेशान : टमाटर के भाव में जबरदस्त उछाल देखने को मिला है। मंगलवार को सब्जी मंडियों में इसकी कीमत 80 रुपये प्रति किलो पहुंच गई। खरीदार हैरान हैं। किलो के भाव से खरीदारी करने की बजाय पाव पर उतरना पड़ा। हालांकि आज थोक बाजार में थोड़ी राहत मिली। बिहार के फुलवारीशरीफ के ताजपुर, समस्तीपुर, कुरकुरी समेत कुछ जगहों से टमाटर की आवक मामूली रूप से हो रही है. बाजार कर्नाटक पर था लेकिन नई फसलों की आवक में देरी हुई है।

मीठापुर मंडी के थोक टमाटर विक्रेता अंबिका प्रसाद ने बताया कि अभी तक ताजा टमाटर का उत्पादन आता था, लेकिन बारिश के कारण कर्नाटक में फसल खराब हो गई. दोबारा बुवाई के कारण कटाई में देरी हुई है। पटना में पिछले हफ्ते तक 100 टन से ज्यादा टमाटर की आवक हुई थी, जो अब घटकर 20 से 40 टन रह गई है। इस वजह से कीमतों में इजाफा हुआ है। कर्नाटक को टमाटरों का राजा कहा जाता है लेकिन वहां इसकी कमी है। आज थोक बाजार में टमाटर का भाव 48 रुपये प्रति किलो था। मीठापुर मंडी के संजय कुमार ने बताया कि खुदरा में छोटा टमाटर 60 से 70 रुपये और बड़ा टमाटर 70 से 80 रुपये प्रति किलो बिक रहा है। कहा कि 15 जून के आसपास कर्नाटक से टमाटर की नई फसल आने की उम्मीद है। इसके बाद कीमतों में नरमी आएगी। इससे पहले अगर पंजाब, छत्तीसगढ़ से टमाटर की आवक बढ़ती है तो कीमत दस से बीस रुपये तक कम हो सकती है।