कर्मचारियों के लिए अच्छी खबर! DA के साथ 15,750 रूपये का मिलेगा TA, जानिए पूरा कैलकुलेशन

sarkari karmchari DA

डेस्क : केंद्रीय कर्मचारियों को महंगाई भत्ते का तोहफा मिला है। लेकिन, उनके वेतन में केवल महंगाई भत्ता (DA) नहीं दिया जाता है। अन्य भत्तों को भी वेतन भाग में ही शामिल किया जाता है। इन्हीं में से एक है यात्रा भत्ता। सरकारी कर्मचारियों को उनकी यात्रा के लिए अब भत्ता दिया जाता है। यह वेतन का हिस्सा है और इसमें लगातार संशोधन होता ही है।

टीए की गणना कैसे की जाती है? वेतन मैट्रिक्स स्तर के आधार पर यात्रा भत्ता को 3 श्रेणियों में बांटा गया है। शहरों और कस्बों को दो श्रेणियों में बांटा गया है। यह वर्गीकरण नगरों की जनसंख्या के आधार पर किया गया है। पहली श्रेणी – उच्च परिवहन भत्ता शहर का है और अन्य शहरों को अन्य की श्रेणी में रखा गया है। गणना का सूत्र कुल परिवहन भत्ता = टीए + [(टीए x डीए%)\/100] है। लेवल 1 और 2 की बात करें तो इस कैटेगरी के लिए 1,350 रुपये प्लस महंगाई भत्ता प्रथम श्रेणी के शहरों के लिए उपलब्ध है, जबकि अन्य शहरों के लिए 900 रुपये प्लस डीए मिलता है।

किसे कितना यात्रा भत्ता मिलता है? महंगाई भत्ता 34 फीसदी होने पर यात्रा भत्ता बढ़ सकता है। हालांकि अभी तक सरकार ने इस पर कोई अंतिम फैसला नहीं लिया है। टीपीटीए शहरों में लेवल 1-2 के लिए टीपीटीए 1350 रुपये, लेवल 3-8 के कर्मचारियों के लिए 3600 रुपये और इससे ऊपर के लेवल 9 के लिए 7200 रुपये है। किसी एक श्रेणी के कर्मचारियों को मिलने वाले परिवहन भत्ते की दर समान है। बस उन्हें जो DA मिलता है वो उसमें जुड़ जाता है. लेवल 9 और उससे ऊपर के कर्मचारियों को उच्च परिवहन भत्ता वाले शहरों के लिए परिवहन भत्ता और 7,200 रुपये का डीए मिलता है। अन्य शहरों के लिए यह भत्ता 3,600 रुपये और डीए है। इसी तरह लेवल 3 से 8 तक के कर्मचारियों को 3,600 प्लस डीए और 1,800 प्लस डीए मिलता है।

ये भी पढ़ें   Ration Card : नए सदस्‍य का राशन कार्ड में नाम दर्ज कराना है जरूरी, ऑनलाइन ऐसे करें यह काम..

कौन से 19 शहर प्रथम श्रेणी में आते हैं? केंद्रीय कर्मचारियों को मिलने वाले यात्रा भत्ते के मामले में 19 शहरों को ए कैटेगरी में रखा गया है. इनमें दिल्ली, अहमदाबाद, बैंगलोर, चेन्नई, कोयंबटूर, गाजियाबाद, ग्रेटर मुंबई, हैदराबाद, इंदौर, जयपुर, कानपुर, कोच्चि, कोलकाता, कोझीकोड, लखनऊ, नागपुर, पटना, पुणे और सूरत शहर शामिल हैं। बाकी शहरों को अन्य की श्रेणी में रखा गया है। वही, कार की सुविधा वाले कर्मचारी को 15,750 रुपये + डीए प्रति माह का भुगतान किया जाता है। ग्रेड पे लेवल 14 और उससे ऊपर के पे ग्रेड वाले कर्मचारियों के लिए कार की सुविधा उपलब्ध है।