बैंक ग्राहकों को बड़ा झटका! Bank ने मेंटेनेंस समेत कई चार्ज बढ़ाए, अब कटेंगे पैसे.. जानें –

bank fd

डेस्क : अगर आप पीएनबी के ग्राहक हैं तो आपके लिए एक अहम खबर है। बैंक ने एनईएफटी (National Electronic Fund Transfer), आरटीजीएस (Real Time Gross Settlement) के लिए शुल्क बढ़ा दिया है। ये बढ़ोतरी 20 मई, 2022 से प्रभावी हैं। पीएनबी ने नेशनल ऑटोमेटेड क्लियरिंग हाउस ई-मैंडेट के शुल्क में भी संशोधन किया है। आइए जानते हैं कि कितना बढ़ गया है।

State Bank Of India

RTGS के नियमों में बदलाव : पीएनबी की ओर से दी गई जानकारी के मुताबिक ऑफलाइन लेनदेन के लिए आरटीजीएस शुल्क घटाकर 24.50 रुपये और ऑनलाइन लेनदेन के लिए 24 रुपये कर दिया गया है, जबकि पहले शाखा स्तर पर ऑफलाइन लेनदेन के लिए आरटीजीएस शुल्क 20 रुपये था। इसके अलावा, आरटीजीएस शुल्क भी कर दिया गया है। 5 लाख रुपये और उससे अधिक की राशि के लिए पहले के 40 रुपये से बढ़ाकर 49.50 रुपये कर दिया गया। इसकी ऑनलाइन फीस घटाकर 49 रुपये कर दी गई है।

एनईएफटी के प्रभार में परिवर्तन : भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा संचालित नेशनल इलेक्ट्रॉनिक फंड ट्रांसफर (NEFT) के शुल्क में बदलाव किया गया है। पीएनबी की वेबसाइट पर दी गई जानकारी के अनुसार, ‘ऑनलाइन शुरू किए गए एनईएफटी फंड ट्रांसफर के लिए बचत खाताधारकों से कोई शुल्क नहीं लिया जाता है।’ आपको बता दें कि एनईएफटी शुल्क पीएनबी के बाहर होने वाले बचत खातों और लेनदेन के अलावा अन्य लेनदेन पर लागू होते हैं।

जानिए नए शुल्क : पीएनबी की ओर से दी गई जानकारी के मुताबिक 10,000 रुपये तक के लेन-देन पर एनईएफटी शुल्क बढ़कर 2.25 रुपये हो गया, जो पहले 2 रुपये था। इसके लिए ऑनलाइन फीस 1.75 रुपये हो गई है। इसके तहत 10,000/- रुपये से अधिक और 1 लाख रुपये तक की लेनदेन राशि के लिए शाखा स्तर पर लेनदेन के लिए शुल्क 4 रुपये से बढ़ाकर 4.75 रुपये कर दिया गया है, जबकि ऑनलाइन लेनदेन के लिए शुल्क 4.25 रुपये निर्धारित किया गया है। वहीं, 1 लाख रुपये से अधिक और 2 लाख रुपये तक के शुल्क को 14 रुपये से बढ़ाकर 14.75 रुपये और ऑनलाइन लेनदेन के लिए 14.25 रुपये कर दिया गया है। 2 लाख रुपये से अधिक के लेनदेन के लिए इसे 2 रुपये से बढ़ाकर 24.75 रुपये कर दिया गया है।

ये भी पढ़ें   अब घर बनाना हुआ और महंगा - सरियों के रेट में आया भारी उछाल, जानें - नया रेट..