बच्चे की भविष्य की नो टेंशन! LIC में महज 150 रुपये निवेश करने पर मिलेंगे 19 लाख, जानिए विस्तार से..

lic building

डेस्क : अगर आप भी बच्चों के भविष्य के बारे में सोच रहे हैं और उनके जीवन की सुरक्षा के लिए कुछ निवेश करना चाहते हैं, तो एलआईसी का न्यू चिल्ड्रन मनी बैक प्लान आपके लिए सबसे अच्छा विकल्प हो सकता है। क्योंकि एलआईसी भारत की सबसे सुरक्षित निवेश कंपनी है, जो न सिर्फ आपके पैसे को सुरक्षित रखती है बल्कि अच्छा रिटर्न भी देती है। तो आप आंख बंद करके भी उस पर भरोसा कर सकते हैं। एलआईसी न्यू चिल्ड्रन मनी बैक प्लान की बात करें तो इसके तहत आप छोटी पूंजी से बड़ा फंड बना सकते हैं, जो आपके बच्चों की शादी के खर्च तक उनकी पढ़ाई के लिए काम आएगा।

LIC के न्यू चिल्ड्रन मनी बैक प्लान में निवेश करने के लिए आपको किसी बड़ी रकम की जरूरत नहीं है। इस पॉलिसी को आप महज 150 रुपये में शुरू कर सकते हैं, जिसमें आपको 19 लाख रुपये का बीमा कवर भी मिलता है। एलआईसी के इस चिल्ड्रन प्लान की अवधि 25 वर्ष है। इसमें पॉलिसी के चालू रहने के दौरान किश्तों में मैच्योरिटी फंड भी मिलता है। इस योजना के तहत पहली किस्त बच्चे के 18 साल की होने पर और दूसरी किस्त बच्चे के 20 साल की होने पर और तीसरी किस्त तब दी जाती है जब बच्चा 22 साल का हो जाता है। वहीं, जब बच्चा 25 साल का हो जाता है तो पॉलिसी की पूरी रकम का भुगतान कर दिया जाता है।

Indian Rupees

LIC के न्यू चिल्ड्रन मनी बैक प्लान की सबसे खास बात यह है कि इसमें पॉलिसीधारक को बीमा राशि का 20 से 25 प्रतिशत मनी बैक टैक्स के रूप में मिलता है। जब बच्चा 25 साल का हो जाता है तो उसे पूरी राशि के साथ बोनस के रूप में 40 प्रतिशत राशि मिलती है। उदाहरण के लिए, यदि आप प्रतिदिन 150 रुपये का निवेश करते हैं, तो यह राशि सालाना 55 हजार रुपये बनती है। इस तरह जब बच्चा 25 साल का होता है तो आप 14 लाख रुपये का निवेश करते हैं। आपको मैच्योरिटी तक 19 लाख रुपये मिलेंगे। वहीं अगर इस बीच पॉलिसीधारक की मृत्यु हो जाती है तो उसी गणना के आधार पर नॉमिनी को पैसा मिल जाएगा।

ये भी पढ़ें   कर्मचारियों की चमकी किस्मत! Account में आएंगे 2.18 लाख रुपए, जानिए डिटेल में..
rupees-5-1

नए बच्चों की मनी बैक योजना शर्तें : LIC न्यू चिल्ड्रन मनी बैक प्लान का धारक भारतीय होना चाहिए। इस पॉलिसी के लिए आधार कार्ड और पैन कार्ड के साथ स्थायी निवास प्रमाण पत्र भी अनिवार्य है। इसके साथ ही जिस बच्चे के नाम से पॉलिसी ली जा रही है उसका मेडिकल सर्टिफिकेट देना भी अनिवार्य है।