जब अमिताभ बच्चन के लिए फूट-फूटकर रोई थी इंदिरा गांधी, पंडित से कराई थी 10 दिनों तक पूजा और बाबा से मंगवाया था ताबीज

Indra Gandhi

डेस्क : बॉलीवुड के महानायक अमिताभ बच्चन की जिंदगी इस वक्त जिस सरलता से चल रही हैं, उतनी सरल पहले कभी नहीं थी। उम्र के इस पड़ाव पर भी वह बेहद ही बढ़िया अदाकारी कर रहे हैं। उनका कौन बनेगा करोड़पति नाम का बहुचर्चित शो टीवी पर खूब टीआरपी बटोर रहा है, लेकिन आज जिस मुकाम पर अमिताभ बच्चन खड़े हैं उस मुकाम पर शायद ही कोई और बॉलीवुड का अभिनेता पहुंच पाए। इसके लिए उन्होंने अपनी जिंदगी तक दांव पर लगा दी है जिसके बाद उनको यह शोहरत हासिल हुई है।

Amitabh bachchan

एक वक्त ऐसा था जब अमिताभ बच्चन सीरियस एंग्री वाले हीरो माने जाते थे। फिल्म में वह कुछ इस प्रकार के एक्शन देते थे कि जनता उनकी जमकर तारीफ करती थी। इतना ही नहीं जब 1983 में उनकी फिल्म कुली आई थी, तब लोगों में इस फिल्म का खूब उत्साह देखा गया था। इस फिल्म की शूटिंग के दौरान अमिताभ बच्चन के सेट पर खतरनाक लड़ाई दिखाई जाती है। उस लड़ाई को शूट करने के दौरान अमिताभ बच्चन बुरी तरह घायल हो गए थे। ऐसे में पुनीत नाम के कलाकार ने फिल्म के सेट पर अमिताभ के पेट में इतना तेज घुसा मारा था कि अमिताभ बच्चन के पेट की आंतें फट गई थी।

अमिताभ बच्चन को इतना जोर का दर्द हुआ था कि वह वहीं पर लेट गए थे, यह नजारा देखकर सभी सेट पर चौंक गए थे। सारे लोग इंतजार कर रहे थे की अमिताभ कुछ बोले लेकिन वह कुछ नहीं बोल पाए क्यूंकि उनको काफी दर्द हो रहा था। सब सोच में पड़ गए थे की आखिर अमिताभ बच्चन अपना सर क्यों नहीं उठा रहे हैं। इसके बाद अमिताभ बच्चन उठकर थोड़ी दूर जाकर पार्क में लेट जाते हैं। पार्क में लेटने के बाद भी उनका दर्द बंद नहीं होता है जिसके बाद वहां पर तुरंत एंबुलेंस बुलाई जाती है और उनको अस्पताल भेजा जाता है। ऐसे में पूरा देश उनके लिए दुआ करने लगता है की वह जल्दी से ठीक हो जाएं।

amitabh bachchan

भारत के प्रधानमंत्री इंदिरा गाँधी अपने बेटे राजीव गांधी के साथ अमेरिका में थी उस वक्त जब उनको यह मालूम हुआ था की उनके देश के मशहूर कलाकार को चोट आई है तो उनकी आँखों में आंसू आ गए थे। इस खबर पर उन्होंने तुरंत अपने बेटे राजीव को भारत भेज दिया था ताकि वह उनकी हाल खबर ले सकें। इस दौरान इंदिरा गांधी के आंखों से भर भर के आंसू निकल आए थे। यह जानकारी वरिष्ठ पत्रकार राशिद द्वारा दी गई है।

इतना ही नहीं बल्कि इंदिरा गांधी अमिताभ बच्चन की तबीयत देखकर इतना ज्यादा घबरा गई थी कि उन्होंने देवराहा बाबा से एक ताबीज मंगवा ली थी। इस ताबीज के माध्यम से वह अमिताभ बच्चन की सुरक्षा करना चाहती थी। यह तावीज़ एक सफेद कपड़े में लिपटा हुआ था। इस ताबीज को अमिताभ बच्चन के तकिया के नीचे रखा गया था और 10 दिन तक पूजा पाठ भी किया गया था। यह सारी बातें दिवंगत नेता माखनलाल फोतेदार की आत्मकथा की किताब चिनार लीव्स में लिखी गई है।

You may have missed

You cannot copy content of this page