सुनवाई के वक्त रोती हुई गौरी खान को छोड़कर मन्नत के बजाय आलीशान Trident होटल में क्या कर रहे थे शाहरुख ? मीडिया में आई ये बात

Trident Hotel

डेस्क : 28 अक्टूबर का दिन शाहरुख खान के लिए बेहद ही ख़ास था, बता दें कि 2 अक्टूबर यानी कि गांधी जयंती के दिन आर्यन खान को ड्रग्स के साथ एनसीबी ने क्रूज शिप पर पकड़ा था। इसके बाद से वह एनसीबी के दफ्तर में रुके थे, जिसके बाद उन्हें आर्थर जेल भेज दिया गया था। इतना ही नहीं बल्कि 25 दिन तक शाहरुख खान और गौरी खान वकीलों के चक्कर काटते रहे, लेकिन अब मुंबई हाई कोर्ट से आर्यन खान को जमानत मिल गई है।

Aryan Khan Case: Shah Rukh Khan and Gauri staying at a South Mumbai hotel? Star couple combing through formalities and conditions to get son home

आर्यन खान के चाहने वालों की नजर इस मामले पर शुरू से लेकर अंत तक बनी हुई थी। जैसे ही आर्यन खान को जेल से बेल मिली तो गौरी खान को बधाइयों के फोन आने लगे। बॉलीवुड के कई सेलिब्रिटी ने उनको फोन किया और खुशखबरी सुनाई। यह सारी खबरें सुनकर गौरी खान फ-फक कर रोने लगी। फैसले की अंतिम घडी में शाहरुख खान अपनी पत्नी के साथ मौजूद नहीं थे। आपको बता दें कि जब जमानत पर फैसला आया तो शाहरुख खान अपने मन्नत बंगले में मौजूद नहीं थे।

Karan thought that he had impressed me with a crap story” – SRK -  Entertainment - Emirates24|7

बता दें कि 28 अक्टूबर को मुंबई के ट्राइडेंट होटल में रुके थे। दरअसल वह मीडिया में नहीं आना चाहते थे और लॉ एंड आर्डर की सिचुएशन को देखते हुए शाहरुख़ ने सोचा की वह होटल में ही रुक जाएं। ऐसे में शाहरुख खान ने ट्राइडेंट होटल में रुकना जरूरी समझा। इस होटल में जाने के लिए उन्होंने अपनी गाड़ी का इस्तेमाल नहीं किया बल्कि उन्होंने अपनी पुरानी क्रेटा नाम की गाड़ी इस्तेमाल की जिसको वह कम चलते थे। इस गाड़ी से वे ज्यादातर सफर नहीं करते हैं।

First bodyguard, then manager. What papers SRK is submitting for Aryan Khan  case | Latest News India - Hindustan Times

इस दौरान शाहरुख खान पपरजियों का सामना नहीं करना चाहते थे। उन्हें पता था कि वह कहीं भी निकलेंगे तो लोगों उनको घेर लेंगे, लेकिन इस मामले पर शाहरुख़ खुद भी दूरी बना कर रखना चाहते थे। फिलहाल के लिए आर्यन और शाहरुख को हर कोई सपोर्ट करता नजर आ रहा है। इतना ही नहीं बल्कि एनसीबी ने भी शाहरुख़ के वकीलों के आगे हथियार डाल दिया है।

You cannot copy content of this page