सोनाली बेंद्रे से शादी करना चाहते थे राज ठाकरे, करते थे बेपनाह प्यार- लेकिन बाला साहब बने थे रास्ते का रोड़ा

Raj Thackeray Sonali Bendre

डेस्क : सोनाली बेंद्रे बॉलीवुड की सुंदर अभिनेत्रियों में से एक है। एक समय ऐसा था जब सोनाली बेंद्रे को हर कोई अपनी फिल्म में कास्ट करना चाहता था। हर कोई उनके बारे में जानना चाहता था, इतना ही नहीं बल्कि एमएनएस चीफ राज ठाकरे भी उनकी सुंदरता के कायल थे। हम कह सकते हैं हैं की वह सोनाली की सुंदरता से नहीं बच पाए थे।

When Raj Thackeray was madly in love with Sonali Bendre but backed out  after Bal Thackeray's advice... - NP News24

एक समय पर दोनों के अफेयर की बातें हुआ करती थी। आज के समय में वह फिल्मों में काफी कम नजर आती है लेकिन नब्बे के दशक में उनकी लोकप्रियता इतनी ज्यादा थी कि हर तरफ उनका नाम सुनाई देता था। सोनाली बेंद्रे ने जख्म, सपूत, डुप्लीकेट, सरफरोश नाम की बॉलीवुड में हिट फिल्में की है। यह सारी फिल्में लोगों को खूब पसंद आई हैं।

Raj Thackeray's Heart Came On Actress Sonali Bendre, Wanted To Get Married  - Burning Topic

राज ठाकरे, दिवंगत राजनेता बाला साहब ठाकरे के भतीजे हैं। महाराष्ट्र में उन दिनों बाला साहेब ठाकरे का सिक्का चला करता था। इतना ही नहीं राजनीति से लेकर बॉलीवुड की फिल्मों तक उनका हस्तक्षेप था। लेकिन सोनाली बेंद्रे और नवनिर्माण सेना चीफ ठाकरे की प्यार की बातें अक्सर हो जाया करती थी। ऐसा लोग कहते हैं कि दोनों एक दूसरे से शादी करना चाहते थे।

Sonali Bendre: Raj Thackeray Sacrificed his LOVE for Sonali; Here's Why|  FilmiBeat - video Dailymotion

उन दिनों राज ठाकरे की पहले ही शादी हो चुकी थी जिस कारण यह सब संभव नहीं हो सका। जब यह बातें बाल ठाकरे तक पहुंची तो उन्होंने इस बात पर चुप्पी तोड़ते हुए कहा कि यह सारी खबरें झूठी है और अगर ठाकरे परिवार से कोई व्यक्ति ऐसा करता है तो यह छवि खराब करने वाली बात है।

एक्ट्रेस सोनाली बेंद्रे से शादी करना चाहते थे राज ठाकरे, ताऊ बाल ठाकरे की  वजह से अधूरी रह गई लव स्टोरी

दूसरी शादी करना बिल्कुल भी सही नहीं है। इतना कहकर बाला साहब ठाकरे पीछे हट गए थे बता दें कि इस इंटरव्यू के बाद भी कई सालों तक दोनों के अफेयर चलते रहे। बाद में राज ठाकरे ने प्यार के आगे राजनीति को चुना और जनता के भले के लिए मैदान में उतरे। ज्यादा जानकारी के लिए बता दें कि राज ठाकरे को लगता था, बाला साहब ठाकरे के बाद पार्टी की कमान उनको मिलेगी। लेकिन ऐसा नहीं हुआ पार्टी की कमान उद्धव ठाकरे के हाथ में चली गई थी। तब राज ठाकरे ने नवनिर्माण सेना बनाई थी।

You may have missed

You cannot copy content of this page