पुनीत राजकुमार का हुआ अंतिम संस्कार, परिवार समेत पूरे राज्य ने दी नम आँखों से विदाई – देखें तस्वीरें

punit raj kumar antim sanskaar

डेस्क : पुनीत राजकुमार, कन्नड़ फिल्म के जाने माने अभिनेता थे। उनकी शुक्रवार को हार्ट अटैक से मृत्यु हो गई और यह खबर जब उनके चाहने वालों को लगी तो वह अंदर से टूट गए। राज्य भर में शोक की लहार दौड़ पड़ी। अपने जीवन के अधिकांश समय उन्होंने स्क्रीन पर बिताया था। उन्होंने छह महीने की उम्र से ही एक्टिंग की शुरुआत कर दी थी।

दर्शकों के साथ वह दिल से जुड़े हुए थे। यह खबर पुनीत ही नहीं बल्कि भारत के प्रधान मंत्री पर भी गहरा असर छोड़कर चली गई क्यूंकि उन्होंने ट्वीट करके पुनीत को श्रद्धांजलि दी।

बेंगलुरु में कांतिवार स्टेडियम के बाहर भीड़ को नियंत्रित करना पुलिस के लिए काफी चुनौतीपूर्ण हो गया था क्यूंकि पुनीत के लिए भारी भरकम भीड़ उनको आखिरी बार देखने पहुंची थी। बेंगलुरु के विट्टल माल्या रोड पर मुश्किल से ही कोई ऐसा वाहन होगा चला होगा। पुलिस को वाहनों को कस्तूरबा रोड के रास्ते डायवर्ट करने की नौबत आ गई थी।

उत्तर कर्नाटक के विभिन्न जिलों से बड़ी संख्या में पुनीत राजकुमार के प्रशंसक उनके अंतिम दर्शन के लिए पहुंचे थे। पुनीत राजकुमार के एक उत्साही प्रशंसक भीमराजू ने कहा, “पुनीत राजकुमार के लगभग सौ प्रशंसक हावेरी से आए हैं। हम लगभग 8 बजे कांतीरवा स्टेडियम पहुंचे, लेकिन भारी भीड़ के कारण हम में से कुछ अंदर नहीं जा सके। किसी ने मेरी शर्ट फाड़ दी। भीड़ में मैंने अपने जूते खो दिए। अंदर जाना असंभव था, फिर मैंने वापस आने का फैसला किया”

बेंगलुरु के पड़ोसी जिलों से भी लोग सैकड़ों की संख्या में पहुंचे हुए हैं। कई ने पोर्टेबल साउंड सिस्टम हाथों में लिए हुए थे। पुनीत राजकुमार की फिल्मों के हिट गाने भी सडकों पर बजते रहे। कुछ फैंस तो ट्रैक्टर में सवार होकर भी पहुंचे। कर्नाटक के मुख्यमंत्री बसवराज बोम्मई ने घोषणा की थी की पुनीत राजकुमार का अंतिम संस्कार रविवार को होगा।

इससे पहले भी कई मंत्रियों ने कहा था कि शनिवार शाम को ही पुनीत का अंतिम संस्कार किया जाएगा, अभिनेता की विदेश में पढ़ रही बेटी के शहर पहुंचने के बाद माहौल लगातार ग़मगीन बना हुआ है। हालांकि इस वक्त भी हजारों प्रशंसक अंतिम सम्मान देने के लिए कांथीरवा स्टेडियम में उमड़ रहे हैं, सरकार ने रविवार को अंतिम संस्कार करने का फैसला किया था, अब अंतिम संस्कार पूरा हो चुका है।

You cannot copy content of this page