यास तूफान ने बिहार में मचाई भारी तबाही, कई पुल टूटे, घर गिरे और सात की गयी जान, आज भी बारिश के आसार

Yaas Bihar

न्यूज़ डेस्क : बिहार में इन दिनो चक्रवाती ‘यस’ प्रभावों से हुई मूसलाधार बारिश से जनजीवन पर भारी असर पड़ा है। रिकॉर्ड तोड़ बारिश से बेगुसराय, पटना सहित जगह-जगह जलभराव की स्थिति हो गई है। हवा की रफ्तार अधिकतम 37 किमी प्रतिघंटे और चक्रवाती हवा की रफ्तार अधिकतम 44 किमी प्रतिघंटे रहने से जगह-जगह पेड़ उखड़ गए। खासकर, ग्रामीण इलाकों में मिट्टी से बने कई मकानों के ढहने की सूचना है।

शुक्रवार को सबसे ज्यादा बारिश वैशाली में हुई: सूबे के अन्य जगहों पर सामान्य से भारी बारिश हुई। शुक्रवार को सुबह साढ़े आठ बजे से शाम साढ़े पांच बजे के बीच सबसे ज्यादा बारिश बेगूसराय 28.5 मिमी, वैशाली में 136 मिमी, जबकि पूर्णिया में 83.8 मिमी दर्ज की गई। खगड़िया 17.5 मिमी, पटना 17 मिमी, पूर्वी चंपारण 43.5 मिमी, अररिया 21 मिमी, समस्तीपुर 36 मिमी , जमुई 12.5 मिमी, मधुबनी 27 मिमी।

तूफान में सात की मौत, छह घायल: राज्य में दो दिनों में यास तूफान की चपेट में आने से सात लोगों की मौत हुई है। इसके अलावा छह लोग घयल हुए हैं। सरकार ने इन मौतों की पुष्टि की है। आपदा प्रबंधन विभाग के मुताबिक दरभंगा और बांका जिलें में एक-एक व्यक्ति की मौत पेड़ गिरने से हो गयी हैं। बांका में एक व्यक्ति की घायल होने की पुष्टि हुई है। इसके अलावा मुंगेर, बेगूसराय, गया, भोजपुर और पटना एक- एक व्यक्ति की मौत दीवार गिरने से हो गयी हैं। तूफान के दौरान मरने वालों के परिवार को चार -चार लाख दिया गया है।

आज उत्तर बिहार में भारी बारिश के आसार: चक्रवात यास कम दबाव के क्षेत्र के रूप में बदलकर राज्य के उत्तर पश्चिम दिशा में आगे बढ़ गया है और अगले 24 घंटों में कमजोर होकर इसी ओर स्थिर रहने के आसार हैं। इसके प्रभाव से उत्तर बिहार में शनिवार को कुछ जगहों पर भारी बारिश हो सकती है। मौसमविदों का कहना है कि राज्य के अन्य हिस्सों में हवा की रफ्तार और बारिश की तीव्रता कम हो गई है और अगले 24 घंटों में और भी कम हो जाएगी।

You may have missed

You cannot copy content of this page