कोरोना की तरह जनसंख्या नियंत्रण के लिए आना चाहिए वैक्सीन : गिरिराज सिंह

डेस्क : गिरिराज सिंह ने बढ़ती जनसंख्या पर चिंता व्यक्त करते हुए कहा कि भारत एक और संकट से जूझ रहा है जिसके भयंकर परिणाम देखने को मिल सकते हैं। इस दिशा में जल्द से जल्द ही कोई कारगर कदम एवं जन जागरूकता का माहौल नहीं तैयार किया गया तो स्थिति काफी भयावह होगी। उन्होंने कहा कि जनसंख्या नियंत्रण हेतु कोरोनाा के तर्ज पर है वैक्सीन का निर्माण आवश्यक हो गया है।

गिरिराज सिंह ने देश के लिए जनसंख्या बढ़ती हुई आबादी कोरोना से भयानक स्थिति है. कोरोना में हमें सीधे हम पर प्रभावित होते हैं. लेकिन यह विस्फोटक जनसंख्या हमारे शिक्षा को बाधा करता है. हमारा हक लेता है. हमारे विकास को बाधा करता है. आज प्रतिवर्ष दो करोड़ से ऊपर लोग पैदा हो रहे हैं. मैं बार-बार कहता हूं देश को विकसित बनाना है. गिरिराज ने कहा कि कोरोना से भयावह स्थिति बढ़ती हुई विस्फोटक आबादी है. हम एक तरफ कोरोना पर रोक लगाने में लगे हैं तो दूसरी तरफ हमें जन जागरण लोगों को ऐसे धर्म के नजर से नहीं देखने की जरूरत है. भारत के विकास के नजर से देखने की जरूरत है।

गिरिराज सिंह ने कहा कि 1978 में चाइना का जीडीपी बहुत कम था. 1979 में उसने जनसँख्या नियंत्रण के लिए कड़ा कानून लाया. आज देखिये कहाँ पहुँच गया.हमारे यहां 1 मिनट में 33 बच्चे पैदा होते हैं उसके यहां 1 मिनट में 10 बच्चे पैदा होते हैं. स्थिति 1 जनवरी को भारत मैं 67 हजार बच्चे पैदा होते हैं. इस स्थिति पर हम सबों को चर्चा करनी चाहिए. कोरोना से ज्यादा जनसंख्या भयावह है. कोरोना के लिए तो वैक्सीन निकल रहा है. अब जनसंख्या को रोकने के लिए भी कानून रूपी वैक्सिंग आना जरूरी है।

आपको बता दें गिरिराज सिंह से इससे पहले भी जनसंख्या को लेकर कई बयान दे चुके हैं.  कई बार अपनी चिंता जता चुके हैं. गौरतलब है कि वोटों के ध्रुवीकरण के लिए गिरिराज सिंह हमेशा अल्पसंख्यकों पर निशाना साधते रहते हैं.वो जब भी जनसँख्या नियंत्रण की बात करते हैं तो उनके निशाने पर अल्पसंख्यक ही होते हैं।