बिहार में दो दिन पहले परिजनों ने कर दिया था अंतिम संस्कार, फेसबुक पर लाइव आई लड़की और बोली – मैं जिंदा हूं

FB LIVE

न्यूज डेस्क : बिहार की राजधानी पटना से एक अचंभित कर देने वाला मामला प्रकाश में आया है। बहुत से लोगों के साथ अक्सर ऐसा होता है। जिसे हम अपनों का लाश समझ बैठते हैं। वो किसी दूसरे का बॉडी निकलता है। और अपना आदमी सुरक्षित रहता है। कुछ ऐसा ही बकाया राजधानी पटना में देखने को मिला। बता दें कि जिस लड़की का अंतिम संस्कार आज से 2 दिन पहले हुआ हो गया था। वह लड़की अचानक फेसबुक पर लाइव आकर कहती है, पापा अभी मैं जिंदा हूं। इस घटना के बाद इससे कोई भी आदमी हैरतमंद हो जाएगा। बता दे की इलाके में दहशत का माहौल है। सब आदमी के मन में किस एक ही सवाल उठ रहा है। आखिर, जिस लड़की का अंतिम संस्कार किया गया था। वह लड़की कौन थी।

यहां समझिए में पूरा मामला: बता दे की गौरीचक थाना क्षेत्र अंतर्गत अंडारी गांव में 6 जुलाई को हत्या कर फेंके गए किशोरी के शव की पहचान पर सस्पेंस बरकरार है। परिवार वालों द्वारा लड़की का बॉडी का पहचान उनको परिजनों को सौंप दिया गया। किशोरी की मां ने पड़ोसी राकेश कुमार पर अपहरण का आरोप लगाया था कि उसने उनकी बेटी के साथ दुष्कर्म किया और फिर उसे मार डाला। उस पर यह भी आरोप था कि उसने शव को एक तालाब में फेंक दिया था। मौके पर पुलिस आई और शव बरामद करने के बाद उसकी पहचान कराई तो किशोरी की मां ने उसे अपनी बेटी बताया इसके बाद 10 जुलाई को उसका अंतिम संस्कार कर दिया गया था।

लड़की फेसबुक पर लाइव आकर बोली मैं अपने बॉयफ्रेंड के संग: बता दें कि इस घटना के बाद लड़की के परिजन हत्यारों की गिरफ्तारी के लिए दर-दर भटक रही थी। इसी बीच थानेदार लालमणि दुबे ने बताया किशोरी की मां ने जिस शव का अंतिम संस्कार किया है वह शव उसकी बेटी का नहीं था। क्योंकि उनकी बेटी ने 12 जुलाई को अपने प्रेमी के साथ फेसबुक पर लाइव आकर कहा- कि वह अभी जिंदा है उसे और उसके प्रेमी को तंग न किया जाए।यह फेसबुक दोस्तों को भी शेयर किया था।

तो फिर वह लड़की कौन थी: इस संबंध में थानेदार ने बताया फिलहाल जांच जारी है जांच के बाद ही पता चलेगा कि वह लड़की कौन थी। इसी के साथ सवाल भी खड़ा हो गया है कि अगर वह लड़की जिंदा है तो जिसका दाह संस्कार किया गया वह कौन थी उसकी हत्या के पीछे किसका हाथ था और कारण क्या था। पोस्टमार्टम रिपोर्ट का इंतजार किया जा रहा है जिसके बाद बहुत कुछ स्पष्ट होने की आशंका जताई जा रही है।

You cannot copy content of this page