युवक ने Suicide से पहले बनाया Video, कहा- “मां मैं लड़की के चलते नहीं मर रहा हूं.. फिर चलती ट्रेन के आगे कूद गया

Train Suicide news

न्यूज डेस्क: हम आर्थिक विकास की दौड़ में भाग रहे हैं। लेकिन, मानसिक स्वास्थ्य में कहीं पीछे रह गए हैं। सोचिए, बेहतरीन की रेस में हम अपनी मानसिक शांति और दिखावे के चक्कर में न जाने कितने लोगों को खो देते है। हो सकता हैं बक्सर जिले का रहने वाला चुलबुल भी शायद ऐसी ही मानसिक तनाव से गुजर रहा होगा, पर इससे लड़ने के बजाय उसने हार मान ली।

दानापुर रेलखंड के बनाही स्टेशन से पश्चिम डाउन लाइन पर शनिवार की शाम ट्रेन से कटकर चुलबुल ने अपनी जान दे दी। इसकी सूचना मिलते ही आरा की रेल पुलिस पहुंची और शव को अपने कब्जे में लेकर उसका पोस्टमार्टम सदर अस्पताल में करवाया। 22 वर्ष का चुलबुल चौबे बक्सर जिले के ब्रह्मपुर थाना क्षेत्र के चौबे चक गांव का रहने वाला था। आत्महत्या से पहले उसने अपनी मां के नाम एक 2 मिनट 53 सेकेंड का वीडियो बनाया और उसे सोशल मीडिया पर पोस्ट कर दिया था।

वीडियो में आत्महत्या करने वाला युवक चुलबुल कह रहा है, “मां आज मैं आत्महत्या कर रहा हूं उसके पीछे किसी लड़की का हाथ नहीं है। आत्महत्या का कारण एक डॉक्टर है जिसने मुझे कहीं का नहीं छोड़ा। कहीं का रहने नहीं दिया। डॉक्टर के पास पैसा है, पावर है।मेरे पास कुछ नहीं है, जिसके चलते डॉक्टर आज जीत गया और मैं हार गया। ”फिर भोजपुरी में कहा, “हम शुरू से ही नालायक रहि, आज भी बानी। तोहर लायक लईका छोटे बा, ओकरे के पढ़िए, ओकरे के आगे बढ़इह सन छोटे पर काम का दबाव नहीं देना क्योंकि काम का प्रेशर बहुत बड़ा प्रेशर होता है। जब लड़का घर से बाहर निकल जाता है तब से सबका प्रेशर लेकर चलना पड़ता है।

“आज तुमसे 100 रुपये मांगे तो तुम दी हो, पर इतना डांट-डपटकर दी हो कि हम जान गए हैं कि मेरा औकात क्या है। ठीक बा मां हम बानी बिहियां स्टेशन पर । तोहनी के 100 रुपया देवे में एतना बुझाता। डॉक्टर जो बोल रहा है सही है पर जो हम बोल रहे हैं वो गलत है.” और इतना कहकर चुलबुल ने खुदखुशी कर ली। वह डॉक्टर की कहानी बताना चाह रहा था पर वह कुछ कह नहीं पाया और रोते रोते अपनी जान दे दी।

You cannot copy content of this page