Good News! बिहार के इस शहर में बनेगा राज्य का सबसे बड़ा चिड़ियाघर, 289 एकड़ भूमि में होगा निर्माण, जानिए-

Raniganj zoo

डेस्क: बिहार वासियों को जल्दी एक बड़ी सौगात मिलने वाली है, यह सौगात डेवलपमेंट से रिलेटेड नहीं बल्कि प्राकृतिक सौंदर्य से रिलेटेड है, जी हां आपने बिल्कुल सही सुना.. जल्द ही बिहार में दूसरा चिड़ियाघर बनने जा रहा है, इसकी कवायद शुरू हो चुकी है। बिहार में अब तक मात्र एक चिड़ियाघर जो की पटना में है, लेकिन अब दूसरा चिड़ियाघर भी जल्द बनकर तैयार होगा।

मिली जानकारी के मुताबिक, बिहार सरकार द्वारा संचालित “जल जीवन हरियाली योजना” को और बढ़ावा देने के लिए अररिया जिले के रानीगंज में राज्य का दूसरा और क्षेत्रफल के दृष्टिकोण से बिहार का सबसे बड़ा चिड़ियाघर बनने जा रहा है। विदित हो की रानीगंज में वर्ष 2007-08 में बनाये गए वृक्ष वाटिका को ही पार्क और चिड़ियाघर में तब्दील करने की योजना पर काम शुरू है। परंतु, अब नए साल में इस पर काम भी होने लगेंगे।

जानकारी के लिए आपको बता दें कि राज्य सरकार ने वित्त वर्ष 2021-22 के लिए पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन विभाग के 737.75 करोड रुपये के बजट में इसका प्रावधान भी किया है। 289 एकड़ के भू भाग में फैले इस वृक्ष वाटिका को चिड़ियाघर में तब्दील करने के लिए डीपीआर बनेगा। डीपीआर बनाने के लिए एजेंसी से आवेदन भी मांगा है। बरहाल, हो की पटना का चिड़ियाघर 153 एकड़ में फैला है। कुछ महीने पहले डिप्टी सीएम तारकेश्वर प्रसाद इस वृक्ष वाटिका का निरीक्षण कर इसे बिहार का दूसरा चिड़िया घर बनाने की घोषणा की है।

आपको बता दे की अभी 32 हेक्टेयर में रिसर्च प्लांट है तो 6 हेक्टेयर में 67 प्रजातियों के 3750 पौधे लगे हैं। वृक्ष वाटिका में दो हेक्टेयर में बम्बू सेटम है। इसमें आठ से 10 प्रजातियों के बांस हैं। वाटिका में सरोबर की स्थापना की जाएगी, जिसमें बोटिंग होगी।

ये भी पढ़ें   बिहार में बिछेगा सड़कों का जाल - 21 नए NH प्रोजेक्ट पर जल्द शुरू होगा काम, 1500 Km के हाईवे बनेंगे..