बिहार वासियों को मिलेगी बेहतर आवागमन की सुविधा, भारत माला-2 में चार और सड़कें शामिल, समझे परियोजना

Bharat Mala

डेस्क : बिहार वासियों के लिए अच्छी खबर है। सीएम नीतीश कुमार से सहमति मिलते ही सरकार ने चार महत्वपूर्ण सड़कों को भारतमाला-2 में शामिल करने हेतु बीते कल यानी बुधवार को प्रस्ताव भेजा दिया है। इस प्रस्तावित सड़क की कुल लंबाई 905 किलोमीटर है। इसके अंतर्गत बक्सर-भागलपुर एक्सप्रेस-वे, नवादा-बरौनी-झंझारपुर-लदनिया हाइवे, मांझी-बरौली-बेतिया-बाघा-कुशीनगर हाइवे और कहलगांव-कुरसेला-फारबिसगंज फोरलेन सड़क शामिल हैं।

यह प्रस्ताव पथ निर्माण विभाग के अपर मुख्य सचिव प्रत्यय अमृत द्वारा सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय के अपर सचिव को भेजा गया है। उन्होंने बताया कि ये सड़कों को भारतमाला-2 में जोड़े जाने से आमजनों को बेहतरीन आवागमन की सुविधा मिल सकेगी। मालूम हो कि इससे पूर्व केंद्र के द्वारा आठ सड़काें को भारतमाला-2 में शामिल करने की मौखिक सहमति दी गई थी। बतादें कि यह चार सड़कों के लिए भी रजामंदी मिलने पर बिहार की कुल 12 सड़कें भारतमाला-2 में शामिल हो जायेंगी।

बीते 24 सितंबर को पथ निर्माण मंत्री के आग्रह पर केंद्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी के द्वारा भारतमाला प्रोजेक्टस के दूसरे चरण में राज्य की 8 एनएच को शामिल करने पर मौखिक सहमति दे दी गयी थी। वहीं इस परियोजना में सकारात्मक पहल भी शुरू हो गया है। बताया जा रहा है कि यह सड़के का आरंभिक आकलन लगभग 50- 60 हजार करोड़ रुपये का है। बतादें कि इस परियोजना में भारत-नेपाल बॉर्डर इलाके वाले सड़क को फोरलेन बनाना, पटना-कोलकाता एक्सप्रेस वे को शानदार बनाना, साथ ही बक्सर-अरवल-जहानाबाद-बिहारशरीफ हाइवे को फोरलेन बनान, साथ ही दलसिंहसराय-सिमरी बख्तियारपुर को फोरलेन बनाना, दीघवारा-मशरख-पिपराकोठी-मोतिहारी-रक्सौल फोरलेन बनाना, और मशरख-मुजफ्फरपुर हाइवे भी शामिल हैं।

You cannot copy content of this page