Lalu Yadav Love Story: बेहद दिलचस्प है दोनों की प्रेम कहानी, जानें- कैसे हुई थी राबड़ी से मुलाकात..

Lalu Yadav Love Story: वेलेंटाइन वीक चल रहा है। प्रेमी जोड़े एक-दूसरे को प्यार का इजहार कर रहे हैं। यह सप्ताह प्यार का सप्ताह माना जाता है। ऐसे में हम आपको आज एक ऐसी प्रेम कहानी के बारे में बताने जा रहे हैं जिसके बारे में आप सुने होंगे लेकिन विस्तार से नहीं जानते होंगे। हम बात कर रहे हैं लालू यादव और बिहार की पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी के बारे में। राजद प्रमुख लालू यादव और राबड़ी देवी की प्रेम कहानी किसी फिल्मी कहानी से कम नहीं है। लालू एक राजनेता के साथ-साथ अच्छे प्रेमी भी हैं। आइए जानते हैं।

ऐसे हुई प्रेम की शुरुआत : साल 1973 की बात है जब लालू राबड़ी एक दूसरे के साथ जन्म के बंधन में बंधे थे उस वक्त लालू की उम्र 25 साल और राबड़ी देवी की उम्र महज 14 साल थी। दोनों की शादी अरेंज्ड मैरिज थी, लेकिन इसके बावजूद राबड़ी देवी के घरवालों ने इस शादी का कड़ा विरोध किया। जानकारी के मुताबिक राबड़ी देवी के चाचा ने शादी के दिन भी लालू से उनकी शादी को लेकर काफी बवाल किया था। दरअसल, राबड़ी देवी का परिवार गांव के समाज में संपन्न परिवार के तौर पर जाना जाता था और लालू एक साधारण गरीब परिवार से थे। उस समय लालू के घर में पैसे की बहुत तंगी थी और वे एक मामूली सी झोपड़ी में रहते थे।

पिता को पसंद थे लालू : हालांकि इन सबके बावजूद राबड़ी देवी के पिता ने किसी की नहीं सुनी क्योंकि लालू यादव को दामाद बनाने का फैसला खुद राबड़ी देवी के पिता ने लिया था राबड़ी देवी के पिता अपनी बेटी के लिए लालू से बेहतर किसी को नहीं मानते थे उन्होंने शादी का विरोध कर रहे तमाम रिश्तेदारों से कहा कि लालू बेशक गरीब परिवार से आते हैं लेकिन होनहार हैं।

ये भी पढ़ें   Tejashwi Yadav बने पापा! घर आई नन्हीं परी, देखिए - खूबसूरत तस्वीरें..

लालू के लिए भाग्यशाली हैं राबड़ी : लालू यादव के लिए राबड़ी देवी को लकी चार्म माना जाता था। पटना यूनिवर्सिटी का चुनाव जीतने के बाद लालू की राजनीति की राहें और तेज हो गईं। फिर उसके बाद लोकनायक जयप्रकाश नारायण से मुलाकात के बाद उनकी राजनीतिक धार और तेज हो गई।

सुमन सौरब

अपने आप को हारा हुआ इंसान.....लेकिन फिर भी जीतने की तमन्ना मे ????