बिहार से चलने वाली ट्रेनों से स्पेशल टैग हटेगा, यात्रा हुआ आसान, जानिए कितना कम लगेगा किराया

Special Train

डेस्क : बिहार के रेल यात्रियों के लिए अच्छी खबर है। अब यात्रियों को बढ़ते किराया से जूझना नहीं पड़ेगा। पटना जंक्शन से चलने वाली सभी ट्रेनों से स्पेशल टैग हटा दिया जाएगा। 230 मेल/एक्सप्रेस ट्रेनें पटना जंक्शन से होकर गुजरती हैं। सभी रेल गाड़ी स्पेशल के नाम पर हैं। स्पेशल ट्रेन होने के चलते यात्रियों को ज्यादा किराया देना पड़ता है। कोविड से पूर्व पटना से नई दिल्ली तक के लिए स्लीपर का किराया करीब 450 रुपए था। कोरोना संक्रमण के थमने के बाद शुरू हुई स्पेशल ट्रेनों में 520 रुपये देने परते हैं।

हालांकि अलग-अलग ट्रेनों का किराया में हेर-फेर है। इसके अलावा अनारक्षित डिब्बों में यात्रा करने पर भी यात्रियों को आरक्षित टिकट लेनी पड़ती है। इससे यात्रियों को 25 से 35 रुपये ज्यादा खर्च करने पड़ते हैं। दानापुर रेल मंडल में चलने वाली 42 पैसेंजर ट्रेनों में मेल/एक्सप्रेस का किराया लिया जा रहा है। रेलवे ने मेल और एक्सप्रेस ट्रेनों का ‘स्पेशल’ टैग हटाने और कोविड महामारी से पहले तत्काल प्रभाव से किराए लागू करने का आदेश जारी किया है। शुक्रवार को जारी आदेश में रेलवे बोर्ड ने कहा कि ट्रेनों का संचालन अब उनके नियमित नंबर और किराए के साथ किया जाएगा। ट्रेन जिस वर्ग की थी, वह पुन: उसी श्रेणी की होगी। बोर्ड ने रेलवे सूचना प्रणाली केंद्र (सीआरआईएस) से इसके लिए सॉफ्टवेयर में जरूरी बदलाव करने को कहा है। सॉफ्टवेयर में बदलाव होते ही ट्रेनों की संख्या के आगे का जीरो हटा दिया जाएगा। साथ ही स्पेशल क्लास होने की वजह से जो किराया बढ़ाया गया वह भी पहले जैसा ही होगा। रेलवे बोर्ड ने स्पष्ट किया है कि ट्रेनों में कोविड दिशा-निर्देशों का पालन किया जाएगा।

विशेष परिस्थितियों में दी गई छूट के अलावा द्वितीय श्रेणी का संचालन आरक्षण के साथ ही होगा। यानी जनरल कंपार्टमेंट में यात्रा के लिए रिजर्वेशन कराना होगा। इसके अलावा एसी में यात्रा के दौरान चादर, तकिए, कंबल, तौलिये आदि उपलब्ध नहीं कराए जाएंगे। गौरतलब है कि पिछले साल से जब से कोरोना वायरस के चलते हुए लॉकडाउन में ढील दी गई है, रेलवे सिर्फ स्पेशल ट्रेनें चला रहा है।

You cannot copy content of this page