देश के 100 पर्यटन स्थलों में सासाराम हुआ शामिल, यहां के इतिहास व महत्व को जानने आएंगे देश के भर के छात्र-छात्राएं-जानिए सरकार का प्लान

Sasaram Tourist

न्यूज़ डेस्क : बिहार के रोहतास (Rohtas) वासियों के लिए खुशखबरी है। यह जिला पर्यटन के दृष्टिकोण से काफी भरा पूरा क्षेत्र है। यहां का इतिहास विश्व भर में पढ़ा जाता हैं। इसी कड़ी में केंद्र की पर्यटन मंत्रालय से अनुमति मिलने के उपरांत शिक्षा मंत्रालय की ओर से जारी की गई 100 पर्यटन स्थलों (tourist place in sasaram bihar) की लिस्ट में सासाराम (Sasaram) को भी शामिल कर लिया गया है। इससे भारत के अनेकों महाविद्यालय व विश्वविद्यालयों में अध्यन करने वाले विद्यार्थी यहां के ऐतिहासिक जगहों का सैर कर यहां के इतिहास व महत्व को जानेंगे। मालूम हो कि इस संबंध में यूजीसी ने उच्च शिक्षण संस्थानों को इस अमल करने का निर्देश दे दिया है।

बौद्ध और सूफी सर्किट से सासाराम के जुड़े होने के साथ पर्यटन के हिसाब से शहर की महत्ता और अधिक बढ़ती नजर आ रही है। इसकी महत्ता की बात करें तो शिक्षा मंत्रालय के द्वारा 100 पर्यटक स्थलों में सासाराम को जगह दिया है। जिले में आए विद्यार्थी यहां के इतिहास, वैज्ञानिक योगदान व परंपराओं को समझेंगे और जानेंगे, जो चीज़ वो अभी तक वे किताबों में ही अध्यन कर रहे हैं। इससे पर्यटन को काफी हद तक बढ़ावा मिल सकेगा, साथ ही नई पीढ़ी को यहां की समृद्ध विरासत, संस्कृति, ज्ञान व भाषा से जुडऩे का सोभाग्य प्राप्त होगा। यह स्थान इस लिए भी महत्वपूर्ण के क्योंकि शेरशाह मकबरा, रोहतासगढ़ किला, सम्राट अशोक का लघु शिलालेख से लेकर शेरगढ़ किला पर्यटन की के लिए से अहम माना जाता है। इसके अलावा ताराचंडी धाम, तुतला भवानी, गुप्ता धाम, चाचा फागुमल आदि इतिहासिक पर्यटन स्थल है।

इतिहासकार डा. श्याम सुंदर तिवारी कहते हैं कि नई शिक्षा नीति के तहत शिक्षा मंत्रालय की ओर से 100 पर्यटन स्थलों की लिस्ट में रोहतास को जोड़ना गौरव की बात है। सांस्कृति, धार्मिक, ऐतिहासिक व पर्यटन के हिसाब से यह डिस्ट्रिक्ट का अपना महत्व है। एक ओर देश के अलग-अलग राज्यों से आए विद्यार्थियों को यहां के इतिहास से रूबरू होने का अवसर मिलेगा, वहीं दूसरी ओर पर्यटन के दृष्टिकोण से रास्ट्रीय पटल पर मजबूत होगा।

जिले के ऐतिहासिक, पर्यटन एवं दर्शनीय स्थल

  • शेरशाह सूरी का मकबरा (Sher Shah Suri’s Tomb)
  • रोहतासगढ़ किला (Rohtasgarh Fort)
  • शेरगढ़ किला (Shergarh Fort)
  • सम्राट अशोक का लघु शिलालेख (Emperor Ashoka’s miniature inscription)
  • अलावल खां का मकबरा (Alawal Khan’s Tomb)
  • ताराचंडी धाम (Tarachandi Dham)
  • सलीम शाह का मकबरा (Salim Shah’s Tomb)
  • गुप्ताधाम (Guptadham)
  • पायलट बाबा धाम (Pilot Baba Dham)
  • मांझर कुंड (Manjhar Kund)
  • तुतला भवानी धाम(Tutla Bhavani Dham)
  • धुआं कुंड (Dhuaan Kund)
  • इंद्रपुरी डैम (Indrapuri Dam)
  • चाचा फागुमल गुरुद्वारा Chacha Fagumal Gurdwara)
  • दुर्गावती जलाशय (Durgavati Reservoir)
You cannot copy content of this page