बिहार के लोगों से करोड़ों की ठगी करने वाली शाइन सिटी इंफ़्रा प्रोजेक्ट पर रेरा ने कसा शिकंजा

Shine City Infra

न्यूज डेस्क : घर,कंपनी प्लाट, निवेश और लगजरी गाड़ी कम कीमत पर दिलवा देने के नाम पर सैकड़ों लोगों के साथ धोखाधड़ी का मामला सामने आया है। शाइन सिटी इंफ़्रा प्रोजेक्ट के नाम पर न सिर्फ बिहार बल्कि उत्तर प्रदेश, झारखंड, राजस्थान आदि राज्यों में भी ठगी की गई है। ठगे जाने में मध्यम वर्गीय लोग के साथ जज, डॉक्टर, सरकारी सेवक भी हैं। बिहार रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवलोपमेन्ट एक्ट (रेरा) में अब तक 109 लोगों ने अपनी शिकायत दर्ज करवा दी है।

जबकि पूरे देश मे इस कंपनी ने 60 हज़ार करोड़ की ठगी की है। बिहार में ठगी करके लगभग 10.90 करोड़ रुपये लेकर कंपनी फरार हो गई है। कंपनी को राशिद नसीम नाम का व्यक्ति चलाता है। जिस पर सिर्फ प्रयागराज में 238 एफ आई आर दर्ज हैं। उत्तर प्रदेश के विभिन्न जिलों में 4000 से ज्यादा मुकदमे इस पर है। पिछले वर्ष जब राशिद मार्केटिंग नेटवर्किंग की कोई स्कीम नेपाल में लांच कर रहा था तब उसे गिरफ्तार किया गया और जमानत मिलते वो दुबई भाग गया। आश्चर्य की बात ये है कि इतने मुकदमें दर्ज होने के बाद भी ये लाइव आकर अब भी लोगों को भ्रम में डाल रहा है कि ये सच्चा है। प्रवर्तन निदेशालय (एनफोर्समेंट डिपार्टमेंट) ने भी निवेशकों के साथ हुए ठगी के लिए शाइन सिटी इंफ़्रा प्रोजेक्ट प्राइवेट लिमिटेड के एम डी के खिलाफ पी एम एल ए( प्रीवेंशन ऑफ मनी लॉन्ड्रिंग एक्ट) के तहत मुकदमा दर्ज किया है।

किसानों से ठगी गई 30 बीघा ज़मीन राशिद ने बिहार में फुलवारीशरीफ के कुछ स्थानीय लोगो की मदद से पटना के इलाके में काम शुरू कर पटना औरंगाबाद एन एच 139 के पास गौरा और जगदीशपुर के किसानों के साथ ठगी कर उनकी 30 बीघा जमीन लीज़ पर लिया। और कुछ ज़मीन रजिस्टरी भी करवा ली पर रकम अब तक किसानों को नहीं मिली। प्रोजेक्ट का नाम पहले ताशी फिर शाइन सिटी कर दिया गया था और अब नोबेल देवलोपेर्स प्राइवेट लिमिटेड कर दिया गया है।

ये भी पढ़ें   बिहार में मिलेगी बेरोजगारी से आजादी! … अब 10 नहीं, 20 लाख नौकरियां देगी नीतीश सरकार

2012 से बिहार में सक्रिय कंपनी को चलाने वाला रशीद 2012 से ही कुछ स्थानीय लोगो की मदद से धोखाधड़ी और ठगी का जाल बिहार में बुन रहा था। 2018 में जब कंपनी के विज्ञापन पर रेरा की नज़र गई तब रेरा ने तुरतं इस पर संज्ञान लिया क्योंकि यर रेरा से रजिस्टर्ड कंपनी ही नहीं थी। कंपनी ने अब तक बिहार, उत्तरप्रदेश, झारखंड, राजस्थान, ओडिशा, मध्यप्रदेश आदि अन्य इलाकों से अरबो रुपये की ठगी कर ली है। ओर कंपनी का मालिक राशिद अपने भाई आसिफ के साथ दुबई भाग गया है।