अब लाल ईंट का लाइसेंस मिलना हुआ बंद – महज 2 लाख निवेश से शुरू करें फ्लाई ऐश ईंट का बिज़नेस..

Fy Ash Bricks Business

डेस्क : पारंपरिक लाल ईंटों का व्यवसाय अब प्रदूषण के प्रसार और पर्यावरण को नुकसान के कारण ढलान पर है। हाल ही में बिहार सरकार ने लाल ईंट बनाने वाली चिमनियों को लाइसेंस नहीं देने का फैसला किया है. इस निर्णय ने ईंटों के पारंपरिक व्यवसाय में बड़े पैमाने पर बदलाव का मार्ग प्रशस्त किया है।बदलते हालात ने युवाओं के लिए कारोबार के नए रास्ते भी खोल दिए हैं। इन्हीं में से एक है फ्लाई ऐश ईंट बनाने का कारोबार, जो बिहार सरकार के ताजा फैसले से सबसे ज्यादा फलने-फूलने वाला है. यह एक ऐसा व्यवसाय है जिसे छोटे निवेश से शुरू किया जा सकता है और कुछ ही वर्षों में करोड़पति बन सकता है।

अब नहीं मिलेगा लाल ईंट की चिमनियों का लाइसेंस : आज हम आपको बताने जा रहे हैं कि कैसे मामूली निवेश के साथ इस बिजनेस को शुरू करके बड़ी कमाई की जा सकती है। इससे पहले आपको बिहार सरकार के ताजा फैसले से अवगत करा देते हैं. मिट्टी की ऊपरी परत को बचाने के लिए बिहार सरकार ने पिछले महीने लाल ईंट भट्टों को अब लाइसेंस नहीं देने का फैसला लिया है. नई व्यवस्था के मुताबिक अब नए लाल ईंट-भट्ठों को लाइसेंस नहीं मिलेगा. पुराने लाल ईंट-भट्टे पहले की तरह काम कर सकते हैं। इसके अलावा सरकार ने यह भी निर्णय लिया है कि एनटीपीसी के थर्मल पावर प्लांट के 300 किलोमीटर के दायरे में ईंट बनाने वाले कारोबारियों को सरकार खुद फ्लाई ऐश मुहैया कराएगी.

इस कारण सरकार देगी फ्री में फ्लाई ऐश : बिहार के पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन विभाग मंत्री नीरज कुमार सिंह ने पिछले महीने एक कार्यक्रम में कहा था कि एनटीपीसी के ताप विद्युत संयंत्र के 300 किलोमीटर के दायरे में ईंट बनाने वालों को फ्री फ्लाई दी जाएगी. सरकार फ्लाई ऐश प्रदान करेगी। दरअसल केंद्र सरकार की गाइडलाइंस के मुताबिक ऐसा करना अनिवार्य है। मंत्री ने कहा था कि कई ईंट व्यापारी फ्लाई ऐश नहीं मिलने की शिकायत कर रहे हैं. वहीं एनटीपीसी प्लांट से फ्लाई ऐश की आपूर्ति को लेकर भी धांधली की शिकायतें मिल रही हैं. अब राज्य सरकार इस पर लगाम लगाएगी और गाइडलाइंस के तहत आने वाले व्यापारियों को इसकी आपूर्ति करेगी.

ये भी पढ़ें   ग्रेजुएट चाय वाली की तोड़ी गई स्टॉल, दुखी प्रियंका रो रो कर, लगा रहीं लालू यादव से गुहार

फ्लाई ऐश ईंट के लाभ : आपको बता दें कि अकेले बिहार में ही 500 फ्लाई ऐश ईंट निर्माता हैं। ताप विद्युत संयंत्रों से निकलने वाली भारी मात्रा में फ्लाई ऐश भी पर्यावरण के सामने संकट पैदा करती है। ऐसे में इसका सही तरीके से निस्तारण करना जरूरी हो जाता है। इसी को ध्यान में रखते हुए सरकार फ्लाई ऐश से ईंट बनाने के कारोबार को बढ़ावा दे रही है। यह दो समस्याओं को एक साथ दूर करता है। यह न केवल फ्लाई ऐश का उपयोग सुनिश्चित करता है, बल्कि पारंपरिक ईंट व्यवसाय के कारण मिट्टी की ऊपरी परत को होने वाले नुकसान को भी रोकता है। इसका एक और फायदा यह है कि यह घर बनाने की लागत को भी कम करता है, क्योंकि फ्लाई ऐश से बनी ईंटें लाल ईंटों की तुलना में सस्ती होती हैं।

इतने निवेश से शुरू किया जा सकता है बिजनेस : Entrepreneurindia की वेबसाइट पर फ्लाई ऐश ईंट व्यवसाय के संबंध में अद्यतन परियोजना विवरण के अनुसार, फ्लाई ऐश से ईंट बनाने का व्यवसाय रुपये के निवेश से शुरू किया जा सकता है। इसकी मैनुअल मशीन 02 लाख रुपये मिलने लगती है। अगर हम स्वचालित मशीनों की बात करें तो निवेश बढ़ता है। स्वचालित मशीन खरीदने के लिए 10-12 लाख रुपये के निवेश की आवश्यकता हो सकती है। जहां मैनुअल मशीन से रोजाना 3000 हजार ईंटें बनाई जा सकती हैं, जबकि ऑटोमेटिक मशीन 01 घंटे में 1000 ईंटें बना सकती है।

फ्लाई ऐश ईंट के कारोबार में इतना मुनाफा : इस व्यवसाय के सामने अब तक की सबसे बड़ी चुनौती कच्चे माल की अनुपलब्धता थी। अब सरकार के हस्तक्षेप से इस समस्या का समाधान हो गया है। यदि आप ताप विद्युत संयंत्र के 300 किमी के दायरे में हैं, तो आपको कच्चे माल की लागत के बारे में चिंता करने की आवश्यकता नहीं है। सरकार ही आपको फ्री में फ्लाई ऐश देगी। अगर आपको इसे बाहर से भी खरीदना पड़े तो भी यह बिजनेस फायदे का सौदा है। कच्चा माल खरीदने के बाद भी 01 ईंट बनाने की लागत रुपये से अधिक नहीं है। वहीं, बाजार में इसकी कीमत 4.50 रुपये से 05 रुपये प्रति ईंट मिलती है। यानी आप एक हजार ईंटों पर ही 3,500 से 4000 रुपये का मुनाफा कमा सकते हैं। चूंकि लोग घर बनाना बंद नहीं करने जा रहे हैं और रियल एस्टेट प्रोजेक्ट भी आ रहे हैं, इसलिए मांग की कोई समस्या नहीं है। वहीं फ्लाई ऐश ईंटों का बाजार लाल ईंटों पर प्रतिबंध से बेहतर होगा।