बिहार से मुंबई पहुंचे जांच अधिकारी पटना SP विनय तिवारी को ‘जबरन’ किया गया क्वारंटाइन

डेस्क : सुशांत सुसाइड केस को लेकर महाराष्ट्र पुलिस पर लगातार सवाल खड़े हो रहे हैं। जिस वजह से बिहार पुलिस ने अपनी जांच तेज कर दी है। पिछले हफ्ते जांच के लिए पटना पुलिस की एक टीम मुंबई गई थी। जिसको लीड करने के लिए रविवार को पटना एसपी विनय तिवारी को भेजा गया। अब खबर आ रही है कि बृहन्मुंबई महानगर पालिका ने उन्हें क्वारंटाइन कर दिया है।

जबरन क्वारंटाइन का आरोप बिहार पुलिस के अधिकारियों ने न्यूज एजेंसी एएनआई को बताया कि चार सदस्यीय टीम को जांच के लिए मुंबई भेजा गया था। टीम ने कई साक्ष्य जुटाये थे। जिसके सुपरविजन के लिए रविवार को पटना से एसपी विनय तिवारी को भेजा गया। बिहार पुलिस के मुताबिक बीएमसी ने उन्हें जबरन क्वारंटाइन कर दिया है। इससे पहले भी मुंबई पुलिस पर सहयोग नहीं करने के आरोप लगे थे। बीएससी के इस कदम से कई सवाल खड़े हो रहे हैं।

क्या कहा था विनय तिवारी ने? पटना एसपी विनय तिवारी रविवार दोपहर मुंबई पहुंचे। इस दौरान उन्होंने बताया कि पटना पुलिस की एक टीम हफ्ते भर से मुंबई में जांच कर रही थी। अब दूसरा चरण सुपरविजन का है, जिस वजह से एक सीनियर अधिकारी की जरूरत थी। ऐसे में बिहार पुलिस ने उन्हें भेजा है। बिहार की टीम यहां पर जरूरी सबूतों को इकट्ठा कर रही है। साथ ही अन्य तत्थों की भी जांच की जा रही है। उन्होंने बताया कि अभी कई दस्तावेज उन्हें नहीं मिले हैं, वो अपनी पूरी कोशिश कर रहे हैं।

सहयोग नहीं कर रही मुंबई पुलिस बिहार डीजीपी के मुताबिक सुशांत सिंह राजपूत मामले में एक दिक्कत ये है कि अभी तक टीम को मामले से जुड़े मूलभूत दस्तावेज तक नहीं मिले हैं। सुशांत सिंह की पोस्टमार्टम रिपोर्ट की जानकारी, सीसीटीवी फुटेज या फिर अन्य जानकारी जिसे मुंबई पुलिस ने अभी तक जांच के दौरान इकट्ठा किया था, उनकी टीम को नहीं दी गई है। बिहार पुलिस की टीम सुशांत की पूर्व मैनेजर दिशा सालियान के परिवार से भी पूछताछ करेगी। पुलिस का कहना है कि दिशा के परिवार से कई बार संपर्क करने की कोशिश की गई है, लेकिन उनसे संपर्क नहीं हो सका है।