January 19, 2022

Smart City की राह पर पटना : शहर के 42 जगहों पर बनाए जा रहे ई-टॉयलेट- करोड़ों की लागत से चल रहे कई प्रोजेक्ट पे काम-जानिए

Smart City Patna

डेस्क : बिहार की राजधानी पटना को स्मार्ट सिटी (Smart City) के तर्ज पर शहर को विकसित करने की प्रक्रिया तेज हो गई है, लगातार अलग-अलग क्षेत्रों में नए नए प्रोजेक्ट के द्वारा शहरों का पूर्णविकास किया जा रहा है, अब वह दिन दूर नहीं जब पटना भी देश के टॉप विकसित शहरों में शामिल होगा।

पटना मेट्रो: बिहार वासी जल्दी राजधानी पटना में मेट्रो सफर का आनंद ले सकेंगे। क्योंकि, पटना मेट्रो का निर्माण कार्य युद्ध स्तर पर चल रहा है। और 2024 तक चलने की उम्मीद है, वही मालूम हो कि मेट्रो में दो कॉरिडोर बनाया जा रहा है। जिसमे कुल 26 मेट्रो स्टेशन बनाए जाने हैं। कोरिडोर-1 में 14 स्टेशन जबकि पटना जंक्शन से आइएसबीटी तक बनने वाले कोरिडोर-2 में 12 स्टेशन बनाए जाने हैं। दोनों ही कोरिडोर में दो-दो इंटरचेंज स्टेशन होंगे। दोनों कोरिडोर मिलाकर 32 KM है।


पटना बस स्टैंड: बता दें कि राजधानी पटना में पहले मीठापुर बस स्टैंड हुआ करता था, लेकिन अत्यधिक लोड होने कारण सरकार ने उसे पाटलिपुत्र स्थित बैरिया शिफ्ट कर दिया। यह बस स्टैंड पूरे 25 एकड़ में बनाया गया है, जहां से रोजाना 700- 800 बजे खुलती है, यहां से पूरे बिहार के 38 जिलों के साथ-साथ झारखंड, उत्तरप्रदेश, ओडिशा के लिए भी बस खुल रह रही है। रोजाना 1 लाख 50 हजार यात्री आ जा रहे है।

स्मार्ट पब्लिक ट्रांसपोर्ट स्टैंड : बता दे की राजधानी पटना में यात्रियों को सुविधा प्रदान करने हेतु शहर के 10 जगहों में इंटरमीडिएट पब्लिक ट्रांसपोर्ट यानी IPT स्टैंड का निर्माण कराया जा रहा है, इन स्टैंडों (Stand) पर यात्रियों को शेड और बैठने की सुविधा तो मिलेगी ही, उसके साथ ही यहां डस्टबिन (Dustbin) , डिस्प्ले बोर्ड (Display Board) व अन्य इंतजाम भी किए जाएंगे, यह पूरा काम स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट (Smart City Project) के तहत किया जाएगा।

CNG बस : बता दें कि राजधानी पटना को प्रदूषण मुक्त करने के लिए राज्य सरकार ने एक बेहतरीन पहल की शुरुआत की थी, जो कि और सार्थक साबित हो रही है, परिवहन विभाग ने राजधानी पटना में सीएनजी (CNG) बसों का परिचालन करवाया था, जो अब धीरे-धीरे पूरे बिहार में परिचालन शुरू हो गया, इससे यात्रियों को यात्रा करने में सहूलियत भी मिलती है और किराए में भी बचत होती है।

इलेक्ट्रिक बस : बता दे की राजधानी पटना में सीएनजी (CNG) बसों को चलाने के बाद बैट्री से चलने वाली बसें यानि इलेक्ट्रिक बसों कभी परिचालन शुरू हो गया, वही इस बसों में CCTV, रूट स्क्रीन सहित कई इलेक्ट्रिक सुविधा दी गई है, जिससे यात्रियों को यात्रा करने में आसानी हो सके, यह इलेक्ट्रिक बसें एक घंटा में रिचार्ज होते ही बिना रोक-टोक के ढाई सौ किलोमीटर तक चलती है।

ई टॉयलेट: राजधानी पटना में स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट (Smart City Project) के तहत 16 स्थानों पर 42 मॉड्यूलर ई-टॉयलेट लगाए गए है। यह मॉड्यूलर टॉयलेट आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस  से लैस और पानी के फ्लश की ऑटोमेटिक भी व्यवस्था की गई है। टॉयलेट में सेंसर लगे होंगे जो टॉयलेट यूज करने के बाद ऑटोमेटिक काम कर रहा है, और पानी का फ्लश भी है, स्वच्छ भारत मिशन के तहत “स्मार्ट सिटी” प्रोजेक्ट (Smart City project) में इस परियोजना को शामिल किया गया है।

6 लेन अटल पथ : बता दें कि राजधानी पटना को चार चांदनी लगाने के लिए अटल पथ का निर्माण किया जा रहा है, यह राज्य का पहला लिफ्ट युक्त फुट ओवरब्रिज होगा। सिक्‍स लेन अटल पथ पर बने इस फुट ओवरब्रिज में कई सुविधाएं दी गई हैं। इसमें बुजुर्ग और दिव्‍यांग इस लिस्‍ट के जरिए ओवर ब्रिज को पार सकेंगे। फुट ओवरब्रिज पर सामान्‍य लोगों के लिए सीढ़ी भी बनाई गई है। लोगों की सहूलियत को देखते हुए हर 10 सीढ़ी के बाद स्टॉप प्लेटफार्म बनाया गया है।

You cannot copy content of this page
Jaggry rice Recipe : सर्दियों में झटपट बनाएं गुड़ के चावल काजू के यह जबरजस्त 7 फ़ायदे,आइए जानें Vivo का नया स्मार्टफोन, जानिए कीमत और इसकी खूबियां घर परबनाए बंगाल का नामी मिस्टी दोई सारा अली खान ने मां संग किए महाकाल के दर्शन